Wednesday, October 23, 2019
Home > featured > असत्य पर सत्य का, बुराई पर अच्छाई के विजय का पर्व विजयादशमी : सुश्री उइके

असत्य पर सत्य का, बुराई पर अच्छाई के विजय का पर्व विजयादशमी : सुश्री उइके

०० डब्ल्यू.आर.एस. कॉलोनी के विजयादशमी उत्सव में राज्यपाल और मुख्यमंत्री शामिल हुए

रायपुर| विजयादशमी के अवसर पर शाम डब्ल्यू. आर. एस. कालोनी में आयोजित दशहरा उत्सव में राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके एवं मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने रावण, कुम्भकरण और मेघनाथ के पुतलों का दहन किया। इस अवसर पर राज्यपाल सुश्री उइके ने प्रदेशवासियों को विजयादशमी की शुभकामनाएं दी और सभी के जीवन में सुख, शांति एवं प्रेम का संचार की कामना की।

राज्यपाल सुश्री उइके ने कहा कि यह पर्व बुराई पर अच्छाई का, असत्य पर सत्य का, अनीति पर नीति का विजय का पर्व है। यह हमारे लिए महत्वपूर्ण दिन है, इस दिन भगवान श्रीराम ने रावण का वध किया था और इसी ही दिन महिषासुर का भी वध हुआ था। उन्होंने कहा कि असत्य, अन्याय और दुराचार रूपी पुतलों का दहन कर हम भगवान श्री राम के शौर्य की जीत का उत्सव मनाते हैं। राज्यपाल ने कहा कि भगवान श्री राम द्वारा स्थापित जीवन मूल्य आज भी हमारे लिये आदर्श एवं मार्गदर्शक हैं। आज आवश्यकता है कि हम अपने अंदर के अहंकार, क्रोध, घृणा जैसे मनोविकारों को समाप्त करें। साथ ही इस अवसर पर भगवान श्रीराम के आदर्शों को हृदय में संजोए हुए समाज और देश का उत्थान करने का संकल्प लें और छत्तीसगढ़ की प्रगति में अपना योगदान दें। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने कहा कि आज अन्याय के प्रतीक रावण का भगवान श्रीराम ने वध किया, इसलिए हम सब इसे विजयादशमी के रूप में मनाते हैं। यह असत्य पर सत्य की जीत का उत्सव है। मुख्यमंत्री ने कहा कि छत्तीसगढ़ भगवान राम का ननिहाल है। यह माता कौशिल्या की भूमि है। इसलिए आज भी छत्तीसगढ़ में मामा द्वारा भांजे की चरण स्पर्श करने की परंपरा है। उन्होंने कहा कि भगवान श्री राम ने अपने वनवास का कुछ समय छत्तीसगढ़ में बिताया था। उन्होंने कहा कि इस अवसर पर माता कौशिल्या के राम को नमन करते हुए मैं प्रदेश की सुख-समृद्धि की कामना करता हूं। कार्यक्रम में राज्यसभा सांसद श्रीमती छाया वर्मा, पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा, विधायक श्री कुलदीप जुनेजा, श्री विकास उपाध्याय, महापौर श्री प्रमोद दुबे, पूर्व महापौर श्रीमती किरणमयी नायक, राज्यपाल के सचिव श्री सोनमणि बोरा, डी.आर.एम. श्री कौशल किशोर, ए.डी.आर.एम. डॉ. दर्शनिता बी. अहलूवालिया तथा अन्य जनप्रतिनिधि एवं गणमान्य नागरिक उपस्थित थे। इस अवसर पर आकर्षक आतिशबाजी की गई और रामलीला का मंचन किया गया।