Tuesday, April 7, 2020
Home > देश विदेश > गाय पर राजनीति ना करे कांग्रेस: उपासने

गाय पर राजनीति ना करे कांग्रेस: उपासने

०० बड़ी संख्या में गायों की मृत्यु को कांग्रेस फायदे का मुद्दा मानकर राजनीति करने का प्रयास

रायपुर| कांग्रेस के तथाकथित विरोध व अनर्गल बयानों पर पलटवार करते हुए भाजपा प्रवक्ता सच्चिदानंद उपासने ने कहा कि गाय हमारी माता है। हमारी संस्कृति एवं समाज में जीवन का अभिन्न हिस्सा गौ माता के सरंक्षण में सरकार ने संवेदनशीलता का परिचय दिया है। गौशाला संचालन में अनियमितता पर त्वरित कार्यवाही करते हुए दोषियों के खिलाफ बिना भेद भाव के कृत्यों का जांच सरकार करवा रही है। मुख्यमंत्री व कृषि मंत्री ने घटना पर संज्ञान लेते हुए कार्यवाही की तत्परता का परिचय दिया है इसमें संवेदनशीलता देखने के बजाय कांग्रेस गड़े मुर्दे उखाडऩे का प्रयास कर रही है। वर्षो से गौ संरक्षण एवं गौरक्षा के लिए प्रतिबद्ध संगठन पर हत्या का आक्षेप लगाने वाले कांग्रेस का दामन वर्षो से दमन व हत्याओं के खून से दागदार है यह बताने की आवश्यकता नहीं है। कांग्रेसियों के कृत्य में संवेदना नहीं वरन अवसरवादिता दिखाई देती है। कांग्रेस बड़ी संख्या में गायों के हताहत होने पर दुख महसूस करने के बजाय सरकार के खिलाफ मुद्दे की खुशी महसूस कर रही है। सरकार बड़ी संख्या में गायों की मृत्यु  व घटना के संदर्भ में कार्यवाही का हर मुमकिन प्रयास कर रही है जिसका संदेश एवं चेतावनी अन्य भी महसूस करेंगे। लाशों पर राजनीति करने के आदि हो चुके कांग्रेसी कम से कम मृत गायों को तो बख्श दें।

गाय कब से इनकी माता हो गई: पूजा

गाय माता तो बैल क्या जैसे ओछी मानसिकता भरे प्रश्न करने वाली छाया वर्मा के बयान पर पलटवार करते हुए भाजपा महिला मोर्चा अध्यक्ष पूजा विधानी ने कहा कि हमारी संस्कृति के प्रतीक गौमाता की लाशों पर राजनीति करने का प्रयास कर रही कांग्रेसियों की गाय कब से माता हो गई। पिता बैल जैसे बातों से अपनी मानसिकता का परिचय देने वाली राज्यसभा सांसद महोदया ने इतना तो स्पष्ट कर दिया है कि कांग्रेसियों का कर्म निखट्टू बैल की तरह रहा है। तभी संवेदनशील अवसरों में अपने लिये वे बैल के पिता होने का परिचय देते है। बड़ी संख्या में गायों की मृत्यु से पीड़ा के बजाय सरकार को कटघरे में खड़े करने के अवसर का जश्न मना रही कांग्रेसी कम से कम गौमाता को बख्श दें।