Feature 1बड़ी खबरराजनीतिरायपुररायपुर संभाग

कांग्रेस पार्टी ने सभी को बहुत कुछ दिया,अब कर्ज उतारने का है समय : सोनिया गाँधी

०० चिंतन शिविर में "एक परिवार, एक टिकट" की व्यवस्था पर किया जा रहा है विचार

०० कांग्रेस के चिंतिन शिविर में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सोनिया और राहुल के साथ पहली पंक्ति में आए नजर 

रायपुर| छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री कांग्रेस के नव संकल्प चिंतन शिविर में हिस्सा लेने राजस्थान के उदयपुर पहुंचे हुए हैं। यहां पार्टी के इस कार्यक्रम में भूपेश बघेल संगठन के दिग्गज नेताओं के साथ पहली पंक्ति में बैठे नजर आए। सोनिया गांधी, राहुल गांधी, आनंद शर्मा, गुलाम नबी आजाद, राजस्थान के सीएम अशोक गहलोत के बगल में प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल बैठे रहे।

 

यह भी पढ़े :
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की पहल पर नामांतरण प्रक्रिया को

सोनिया गांधी का सम्बोधन सभी ने बड़े ध्यान से सुना। अपनी बात रखते हुए सोनिया गांधी ने सभी नेताओं से कहा कि हमें सुधारों की सख्त जरुरत है। रोजाना काम करने के तरीके में बदलाव करना होगा। हमें अपनी निजी आकांक्षाओं को संगठन के हिताों के अधीन रखना होगा। पार्टी ने हम सभी को बहुत कुछ दिया है अब समय है कर्ज उतारने का। मैं समझती हूं कि इससे आवश्यक और कुछ नहीं है। साथियों मैं आप सबसे आग्रह करती हूं, कि अपने विचार यहां खुलकर रखें ,मगर बाहर सिर्फ एक ही संदेश जाना चाहिए। संगठन की मजबूती, निश्चय और एकता का संदेश हमें बरकरार रखना होगा।

 

यह भी पढ़े :
सांसद और केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह की मां का निधन, मुख्यमंत्री ने जताया दुःख

 

 

कांग्रेस के इस चिंतन शिविर के बारे में मीडिया को जानकारी देते हुए अजय माकन ने कहा कि “एक परिवार, एक टिकट” की व्यवस्था पर विचार किया जा रहा है। परिवार के दूसरे सदस्य को टिकट तभी मिलेगा जब वह संगठन में कम से कम पांच साल काम करे। कोई भी व्यक्ति जो लगातार पद धारण कर रहा है उसे पद छोड़ना होगा और उस व्यक्ति के उसी पद पर वापस आने पर तीन साल की कूलिंग अवधि होगी।

इन मुद्दों पर होगी चर्चा :- राजस्थान के उदयपुर में कांग्रेस का चिंतन शिविर शुरू हो चुका है । इसमें पार्टी के वरिष्ठ नेता और गांधी परिवार सदस्य शामिल हो रहे हैं। इस बैठक को ‘नव संकल्प चिंतन शिविर’ नाम दिया गया है। इसमें 2024 के आम चुनावों की रणनीति, ध्रुवीकरण की राजनीति का मुकाबला करने और आने वाली चुनावी चुनौतियों के लिए तैयारी पर विचार-विमर्श किया जाएगा। बैठक में छह विषयों – राजनीति, संगठन, अर्थव्यवस्था, सामाजिक कल्याण, युवा और कृषि पर ‘मैराथन’ चर्चा होगी।

Related Articles

Back to top button