पदभार ग्रहण करने के बाद नवनियुक्त एसपी अग्रवाल ने बुलाई बैठक

रायपुर। नियुक्ति के तत्काल बाद ही रायपुर एसपी प्रशांत अग्रवाल एक्शन में आ गए, और राजपत्रित अधिकारी और थानेदारों की आकस्मिक बैठक बुलाई। बता दें कि इसके पहले वे दुर्ग में एसपी थे, लेकिन 2 महीने के अंदर ही उनको दुर्ग से राजधानी रायपुर की जिम्मेदारी सौंप दी गई। चार्ज लेते ही एसपी अग्रवाल ने आकस्मिक बैठक बुलाई है। नवनियुक्त एसपी प्रशांत अग्रवाल ने कहा कि राजधानी होने के नाते चैलेंजिंग रहने वाली है। क्षेत्र भी बड़ा है, बेसिक पुलिसिंग को ध्यान में रखते हुए कार्य किया जाएगा। अपराधों पर नियंत्रण रखा जाएगा। पुलिस विभाग के अधिकारी और जवानों को साथ में लेकर अनुशासन में रखते हुए कोशिश रहेगी कि जिले में शांति व्यवस्था बरकरार रहे। फिलहाल सभी लोगों से चर्चा की जाएगी। सभी चीजों को ध्यान में रखते हुए रणनीति तैयार की जाएगी।
रायपुर के नवनियुक्त एसएसपी प्रशांत अग्रवाल का नाम प्रदेश के लोगों के लिए कोई नया नहीं है। प्रदेश के विभिन्न जिलों में सेवाएं दे चुके प्रशांत अग्रवाल वर्ष 2008 में भारतीय पुलिस सेवा के लिए चयनित होने के बाद दो वर्ष के प्रशिक्षण उपरांत 2010 में छत्तीसगढ़ कैडर में शामिल हुए। अपने 11 साल की सेवा में आईपीएस प्रशांत अग्रवाल ने अनेक महती, जिम्मेदारी और चुनौतियों के भरे दायित्वों का निर्वहन किया। अपने कार्यकाल के साढ़े छह साल उन्होंने नक्सल प्रभावित इलाकों में बिताए। इसमें देश के 30 सर्वाधिक नक्सल प्रभावित जिलों में शामिल बीजापुर और राजनांदगांव जिले में पुलिस अधीक्षक की जिम्मेदारी निभाई।

error: Content is protected !!