प्रदेश में गांव-गांव हो रही गिरदावरी : राजस्व अमले द्वारा मौके पर ही ऑनलाइन दर्ज की जा रही प्रविष्टि

रायपुर| प्रदेश के सभी जिलों में गांव-गांव गिरदावरी का कार्य किया जा रहा है। राजस्व अधिकारी  अपने अमले के साथ मैदानी स्तर पर जा कर गिरदावरी का काम कर रहे हैं। राज्य शासन द्वारा किसानों की फसलों का व्यवस्थित और सही रिकार्ड रखने के लिए चलाए जा रहे इस अभियान में राजस्व अमले द्वारा किसानों के खेतों में फसलों का भौतिक सत्यापन कर इनकी ऑनलाइन प्रविष्टि की जा रही है। राज्य में गिरदावरी का कार्य एक अगस्त से 30 सितंबर तक किया जाएगा।
उल्लेखनीय है कि राज्य शासन द्वारा किसानों की फसलों को समर्थन मूल्य पर खरीदी के लिए गिरदावरी का उपयोग किया जाता है। सभी राजस्व अधिकारियों को गिरदावरी के माध्यम से किसानों द्वारा बोए गए फसलों का सही आकलन करने के निर्देश दिए गए हैं। गिरदावरी से प्राप्त जानकारी के आधार पर समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के अलाव राजीव गांधी किसान न्याय योजना और मुख्यमंत्री वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना के तहत प्रोत्साहन स्वरूप इन्पुट सब्सिडी की राशि किसानों को उपलब्ध करायी जाती है। प्रदेश में गांव गांव की जा रही गिरदावरी कार्य का संभागायुक्त और कलेक्टरों  द्वारा निरीक्षण किया जा रहा है। बिलासपुर संभाग के कमिश्नर डॉ. संजय अलंग ने कोरबा जिले के कटघोरा विकास खंड के ग्राम जेंजरा में वहां के किसान श्री विक्रम सिंह की खेत में राजस्व विभाग के अमले द्वारा किए जा रहे गिरदावरी कार्य का अवलोकन किया। उन्होंने राजस्व अमले को किसानों द्वारा बोए गए वास्तविक और सही रकबे को दर्ज करने के निर्देश दिए। उन्होंने गिरदावरी की आन लाइन प्रविष्टि का भी अवलोकन किया। किसान श्री विक्रम सिंह द्वारा लगभग 2 एकड़ रकबे में सुगंधित धान की फसल लगायी गई है।  इस मौके पर कोरबा जिले की कलेक्टर श्रीमती रानू साहू भी उपस्थित थी।

error: Content is protected !!