बिजली को लेकर भाजपा का प्रदर्शन नौटंकी, फोटो सेसन मात्र : कांग्रेस

०० 400 यूनिट तक छूट यथावत, भाजपाई झूठ बोल गुमराह कर रहे : कांग्रेस

०० मोदी सरकार द्वारा पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ाने से बढ़े बिजली के दाम : घनश्याम तिवारी

रायपुर। राज्य विद्युत नियामक आयोग द्वारा कांग्रेस भूपेश सरकार के लगभग पौने तीन साल बाद बिजली में मामूली वृद्धि का प्रस्ताव लाया है। जिसका भाजपाई विरोध कर रहे है। डंगनिया स्थित बिजली ऑफिस में भाजपा के प्रदर्शन पर प्रदेश कांग्रेस वरिष्ठ प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने तीखा पलटवार करते हुए कहा कि, मामूली वृद्धि की मुख्य वजह देश मे पेट्रोल-डीजल के दाम में बेतहाशा वृद्धि प्रति लीटर 100रु. है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता घनश्याम राजू तिवारी ने कहा कि, छत्तीसगढ़ सर प्लस बिजली वाला राज्य हुआ करता था। वर्ष 2003 में रमन सरकार के आते ही बिजली विभाग को पांच कंपनी बनाकर बगैर सोचे समझे गैर जिम्मेदार निर्णय लेने से लागत आय बढ़ गया जिससे घाटा होने लगा और उसकी भरपाई 3 रु. 27 पैसे की बिजली का दाम 6रू. 20 पैसे तक बढ़ाकर जनता से वसूला गया। भाजपा रमन सिंह बताएं कि 15 साल में 9 बार बिजली महंगा करना और हर वर्ष औसत 6 प्रतिशत की बिजली की वृद्धि क्या थी? भाजपाई बिजली पर कुछ भी बोलने का नैतिक अधिकार नहीं रखते है। ऊर्जा विभाग में हुये बड़े-बड़े घपले घोटाले क्या थे,कोरबा वेस्ट पावर प्लांट में किये गये घोटाले क्या थे? तिवारी ने कहा कि, बिजली उपभोक्ताओं को भाजपा के शासनकाल में 1.5 प्रतिशत सरचार्ज वसूला जाता था जिसे घटाकर कांग्रेस सरकार ने 1 प्रतिशत किया, गैर घरेलू उपभोक्ताओं के सिंगल फेस की निर्धारित सीमा 2250 वॉट को बढ़ाकर 5000 वॉट किया शहरी क्षेत्र में नये कनेक्शन में 200 मीटर और गांव में 500 मीटर नये कनेक्शन में लाईन अफोर्डिंग चार्जेस न लेकर नया कनेक्शन सस्ते में लेने जैसी अनेक सुविधा एवं राहत भूपेश सरकार ने जनता को दी है। मुद्दा विहीन प्रदेश भाजपा बिजली के नाम पर प्रदर्शन कर मात्र नौटंकी और फोटो सेशन कर रहे हैं।

error: Content is protected !!