स्व. रामप्रसाद देवांगन जी के नाम पर खरोरा महाविद्यालय का नामकरण से अंचल वासियों में हर्ष की लहर

रायपुर। खरोरा के पूर्व मालगुजार स्व. रामप्रसाद देवांगन जी के खरोरा क्षेत्र में शिक्षा जगत में उनके अतुलनीय योगदान के चलते छत्तीसगढ़ शासन द्वारा शासकीय महाविद्यालय का नामकरण उनके नाम पर किए जाने से उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

खरोरा अंचल में उच्च शिक्षा के लिए खरोरा के मालगुजार रामप्रसाद जी देवांगन उर्फ डंडीराम देवांगन के द्वारा 1 जुलाई 1959 को उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की शुरुआत की गई। 35 छात्र छात्राओं के साथ उस समय खरोरा के बाद सीधे रायपुर में ही विद्यालय संचालित है। दूसरी ओर बलौदाबाजार में ही विद्यालय थे आखिर छात्र कहां जाएं यह सोचकर डंडीराम जी ने विद्यालय आरंभ कराया। अपने अनुज भरत देवांगन के नाम से आज इस विद्यालय में 1100 छात्र अध्ययन करते हैं। प्रतिवर्ष 250 से 300 छात्र उच्च अध्ययन के लिए बाहर जाते हैं। आपके इस योगदान के लिए खरोरा कालेज का नामकरण आपके नाम से किया जाना आप को सच्ची श्रद्धांजलि है। आजीवन शिक्षा के बेहतरी के लिए इस नामकरण के लिए खरोरा अंचल वासियों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, उच्च शिक्षा मंत्री उमेश पटेल, विधायक अनीता योगेंद्र शर्मा, पूर्व अध्यक्ष निशा अरविंद देवांगन, वर्तमान अध्यक्ष अनिल सोनी तथा सभी पूर्व एवं वर्तमान पार्षदों और नगर वासियों का हृदय से आभार व्यक्त किया है।

error: Content is protected !!