कोरिया जिले के सोनहत ग्राम पंचायत कछाड़ी में ग्राम लोलकी अपने अस्तित्व की खोज मे

ऐसानुल हक अंसारी

कोरिया। आजादी के 74 सालों में भी एक ऐसा गांव जो आजतक न राजस्व भूमि में है और न ही वन भूमि मे इनके घरों का न तो आजतक राजस्व पट्टा मिला है और ना तो वन अधिकार पट्टा बन पाया है कितने सरकार आये कितने गए लेकिन किसी ने भी इस ओर ध्यान नही दिया ये मामला सिर्फ अखबारों की सुर्खियों में ही रह गया पिछले चुनावों में भी कई वादे हुए ग्रामीणों का कहना है कुछ बड़े नेताओं और जनप्रतिनिधियों द्वारा निवर्तमान सरकार के खिलाफ चक्कजाम धरनाप्रदर्शन भी किये और आश्वासन भी दिया गया कि हमारे सत्ता में आते ही इस गाँव को हम राजस्व पट्टा बनवा देंगे लेकिन चुनाव जीतते और सरकार में आते ही चुनावी वादों की तरह भूल गए और लगभग 3 साल के कार्यकाल में 1 बार भी गांव की तरफ मुड़कर नही देखा। ग्रामीणों में काफी आक्रोश व्याप्त है उनका कहना है कि गाँव के बीचो – बीच कच्ची सड़क है जिस पर आजतक न तो सी सी सड़क बनी और न ही पानी निकासी हेतु नाली है ।

पटवारी शत्रुघ्न का क्या कहना है –
हमारे द्वारा गांव का सर्वे कर लिया गया है और नक्शा तैयार कर भेज दिया गया है। अब शासन की ओर से क्या होता है कागजी काम मे लेट होता है।

error: Content is protected !!