मस्जिद और चर्च बने वैक्सीनेशन सेंटर, रायपुर में शुरू हुआ मास्क का लंगर अब तक 27 हजार लोगों में बांटे

रायपुर| सिख समुदाय लंगर की परंपरा से भूखों की भूख सदियों से मिटाता आया है। कोरोना के इस दौरान में इस समुदाय ने लंगर की परंपरा को मास्क से जोड़ दिया है। मुफ्त रोटी की तरह मास्क बांटे जा रहे हैं। रविवार को पहली बार शहर के धार्मिक स्थल वैक्सीनेशन सेंटर के तौर पर डेवलप किए गए। चर्च और मस्जिद में लोगों को कोरोना की वैक्सीन लगाकर सभी की सलामती की दुआ मांगी गई।

छत्तीसगढ़ सिक्ख काउंसिल के अमरजीत छाबड़ा ने बताया कि शनिवार को मास्क का लंगर अभियान के तहत शास्त्री बाजार इलाके में लोगों को मास्क बांटे गए। खास बात ये है कि ये मास्क सिख पगड़ी के कपड़े से बनी हैं। कोरोना के प्रति अपने संवेदनशील भाव को दिखाने पगड़ी में इस्तेमाल होने वाले कपड़े से मास्क बनाकर एक तरह का सम्मान भी प्रकट किया जा रहा है। सिख धर्म के पांचवे गुरु गुरुर्जन देव के शहीद दिवस 14 जून से मास्क का लंगर चलाया जा रहा है। इस काम में शहर के नवनीत सिंह, गगन सिंह, रसमित खुराना जसपाल सिंह रंधावा, मोनू सलूजा, मनजीत सिंह सैनी, पप्पू सलूजा अपना सहयोग दे रहे हैं। बीते दो सप्ताह में रायपुर शहर के भीतर 27 हजार मास्क बांटे गए हैं। ये अभियान जारी रहेगा।सर्व धर्म समाज के बैनर तले रविवार को रायपुर में चर्च और मस्जिद को वैक्सीनेशन सेंटर के तौर पर तैयार कर लोगों को कोरोना से बचाने का टीका लगाया गया। नगर निगम रायपुर के संस्कृति विभाग के माध्यम से पहले पैदल मार्च निकाला गया। अब सेंट पॉल चर्च ग्राउंड स्थित चर्च और छोटापारा मस्जिद में कोरोना टीकाकरण शिविर लगा। यहां महापौर एजाज ढेबर भी पहुंचे। सभी से टीका लगवाने की अपील की गई। अब इस तरह के शिविर जल्द ही शहर के मंदिर और गुरुद्वारे में भी आयोजित होंगे। नगर निगम सभी धर्मों को मानने वाले लोगों से टीकाकरण की अपील कर रहा है। यह प्रयोग शहर में पहली बार हुआ। छोटापारा मस्जिद 210, सेंटपॉल चर्च में 220 लोगों ने कोरोना टीका लगवाया।

error: Content is protected !!