पूर्व मुख्यमंत्री ने गृहमंत्री को पत्र लिखकर मुंगेली के खुड़िया चौकी को बंद नहीं करने की मांग

०० पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा, नक्सल गतिविधियां और गो-तस्करों के मद्देनजर फैसला वापस लें

रायपुर| मुंगेली जिले में नक्सल प्रभावित खुड़िया में पुलिस चौकी बंद करने के फैसले का विरोध जारी है। अब पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह ने गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू को पत्र लिखकर खुड़िया चौकी बंद नहीं करने की मांग की है। उन्होंने पत्र में लिखा है कि क्षेत्रीय सुरक्षा, नक्सल गतिविधियां और गो-तस्करों के मद्देनजर सरकार को अपना फैसला वापस लेना चाहिए।

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने अपने पत्र में लिखा है कि खुड़िया चौकी इलाके के आस-पास 51 गांवों में 15 हजार 820 लोग रहते हैं। यहां लोग काफी पहले से खुड़िया चौकी की बनाने की मांग कर रहे थे। इसी के चलते 2014 में इस चौकी को प्रारंभ किया गया था, जिससे आस-पास के लोगों को असामाजिक तत्वों से निजात मिली थी और अपराध भी कम हुआ था, लेकिन चौकी बंद करने के आदेश से लोगों में डर है।इसके अलावा रमन ने पत्र में लिखा है कि खुड़िया चौकी अचानकमार टाइगर रिजर्व, कवर्ध जिला और मध्य प्रदेश से भी लगा हुआ है। क्षेत्र में समय-समय पर नक्सल गतिविधियां भी होती रहती हैं। वहीं बड़े पैमाने पर इस इलाके में तस्कर गो- तस्करी कर मध्य प्रदेश की तरफ जाते हैं। खुड़िया डैम भी पर्यटन का एक बड़ा केंद्र है, जहां बहुत से पर्यटक पहुंचते हैं। ऐसे में जनहित में इस फैसले को वापस लेना चाहिए। दरअसल, खुड़िया गांव की सीमा एक तरफ नक्सल प्रभावित मध्य प्रदेश के डिंडौरी जिले तो दूसरी तरफ छत्तीसगढ़ के कवर्धा जिले के नक्सल प्रभावित क्षेत्र से लगती है। इस क्षेत्र में घने जंगल भी हैं। इसके अलावा पुलिस को आए दिन इस इलाके में नक्सलियों के होने की सूचना मिलती रहती है। यही वजह है कि जंगल के अंदर अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए पूर्व की भाजपा सरकार ने यहां पुलिस चौकी की स्थापना की थी। अब सरकार इसे बंद करने का फैसला लिया है।

error: Content is protected !!