संवेदना कक्ष से महिलाओं की समस्या का होगा जल्द निराकरण : वंदना राजपूत 

०० राज्य सरकार का भरसक प्रयास महिलाएं सुरक्षित रहे एवं आत्मनिर्भर बने

०० संवेदना कक्ष मे महिला पुलिस होने से महिलाएं अपनी समस्या को निर्भीक होकर रखेगें 

रायपुर। महिला अपराध को रोकने राज्य सरकार ने ’संवेदना कक्ष’ खोलने के निर्णय का स्वागत करते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार का भरसक प्रयास रहता है कि महिला बहनें सुरक्षित और खुश रहे इसका शुभारंभ राजधानी के सरस्वती नगर पुलिस थाना परिसर में ‘संवेदना कक्ष’ से हुआ। जिसमें महिला संबंधी अपराध की शिकायतों का जल्द से जल्द निराकरण करने, महिलाओं के विरूद्ध हो रहे अपराधों में कमी लाने पर जोर दिया जाएगा। अब राज्य के हर थाना में संवेदना कक्ष होगा, प्रताड़ित महिला बहनें बिना डर भय के संवेदना कक्ष में महिला पुलिस के सामने बेहिचक अपनी समस्या को बतायेंगे और उस समस्या का निराकरण भी जल्दी होगा।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत ने कहा कि पूर्ववर्ती सरकार रमन सिंह के 15 साल शासन में माताओं एवं बहनों के साथ अत्यधिक अत्याचार हुआ विडंबना की बात है जब कोई महिला के साथ अनाचार होता और दुखी पीड़ित महिला थाना रिपोर्ट दर्ज कराने जाती तो रिपोर्ट दर्ज नहीं होता था, अपराधी को पकड़ना तो दूर रमन सिंह के ओ.एस.डी. रहे ओ.पी.गुप्ता एक नाबालिग के साथ अनाचार करता है। नाबालिग एवं परिजनों को बयान बदलने डराया धमकाया जाता है। अपराधियों के हौसला बुलंद रहता था। अपराधियों को संरक्षण देने का काम जो भारतीय जनता पार्टी के नेता एवं नेत्रियां करते थे। राजपूत ने कहा कि कांग्रेस सरकार में महिला संबंधी अपराधों पर त्वरित गति से कार्रवाई करने को लेकर पूरे प्रदेश भर के पुलिस थाना परिसर में संवेदना कक्ष का निर्माण किया जायेगा। इसके लिए अलग से महिला पुलिस अधिकारियों की टीम बनाई गई है यह टीम ही पीड़ित महिलाओं की शिकायतों को सुनकर उनकी समस्याओं का निदान करने का काम करेगी। पूर्ववर्ती रमन सिंह के सरकार में पीड़ित महिला बहनें थाना में अनाचार का शिकायत करने जाती थी तो पुलिस थाना में महिला पुलिस उपस्थित नहीं रहती थी जिसके कारण महिला अपनी समस्या के शिकायत करने में कतराती थी।

error: Content is protected !!