नौकरी का झांसा देकर 19 लाख की ठगी, आरोपी खुद को नगरीय प्रशासन मंत्री का करीबी व बलरामपुर कलेक्टर को बताया अपना दोस्त

रायपुर। राजधानी में नौकरी का झांसा देकर लाखों की ठगी का मामला सामने आया है। यह मामला 2018-19 का है, जब आरोपी ने नौकरी दिलाने के नाम पर पीड़ितों से लगभग 19 लाख रूपए ऐंठ लिए। इस मामले में एसएसपी से शिकायत के बाद सरस्वती नगर थाना में एफआईआर दर्ज की गई है।
जानकारी के अनुसार आरोपी जीवमंगल सिंह टंडन के खिलाफ सरस्वती नगर थाने में 19 लाख रुपयों की धोखाधड़ी का अपराध दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि मामला वर्ष 2018-19 का है जब आरोपी जीवमंगल सिंह ने मो.उमर, मो.जावेद,अब्दुस समद, अशोक यादव, कासिफ इकबाल,अब्दुल वदूद से एम्स अस्पताल में सुपरवाइजर पद, एससीसीएल, बीएसपी सहित अन्य जगहों पर नौकरी लगाने के नाम पर कुल 19 लाख रूपए ऐंठे है। आरोपी जीवमंगल सिंह ने फ़र्ज़ी अपॉइंटमेंट लेटर भी प्रार्थियो को ज़ारी किया था। इसके बाद जब नौकरी नहीं लगी और समय बढ़ता गया, तब प्रार्थियो ने आरोपी जीवमंगल पर दबाव बनाया। जिसके बाद उल्टा जीवमंगल ने ही अपनी ऊंची पहुँच की धौंस दिखाते हुए सब को थाने में अंदर करवा देने की बात कही। आरोपी ने खुद को नगरीय प्रशासन मंत्री शिव डहरिया को 40 लाख रुपए देकर चुनाव में जीताना बताया है। साथ ही बलरामपुर कलेक्टर को अपना दोस्त बताया और बाउंड्री वॉल का कार्य दिलाने का नाम पर भी डेढ़ लाख रुपए ऐंठ लिए। फिलहाल पुलिस आरोपी की तलाश में जुटी है।

error: Content is protected !!