लॉकडाउन सिर्फ गरीबों के लिए शराब कोचिया की तो अभी भी चांदी है : श्रीचंद सुंदरानी

०० शासन के नाकामी से मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र से हो रही शराब की तस्करी

०० पुनः अवसर है सरकार की इच्छाशक्ति हो तो शराब बंदी हो सकती है

रायपुर| भारतीय जनता पार्टी जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने रायपुर में हो रहे कच्ची शराब तस्करी पर चिंता जाहिर की है । उन्होंने कहा कि जब रायपुर जिले में पूर्ण लाक डाउन है। तो यहां कच्ची शराब कैसे पहुंच रही हैं।  इसपर दुर्भाग्य जनक बात यह है कि यह कच्ची शराब मुख्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र में बन रही है और वहां से सीमा लगा होने के कारण रायपुर जिले में सप्लाई हो रही है।  इससे कहीं ना कहीं इस आशंका को बल मिलता है कि है कि इसके पीछे प्रशासनराजनीतिक दबाव में ढिलाई बरत रही है।
उन्होंने सरकार से पूछा कि क्या लॉक डाउन सिर्फ गरीबों के लिए है प्रशासन घूम घूम कर छोटे छोटे व्यापारियों के ऊपर फाइन कर रही है लेकिन शराब कोचिंयो के ऊपर कारवाई की कोई सूचना नहीं मिलती।  प्रदेश में कच्ची शराब पीने के कारण  मौत की भी खबर आई है । क्या प्रशासन रायपुर में ऐसी किसी घटना का इंतजार कर रही है। उन्होंने कहा कि रायपुर में दूसरे राज्यों की शराब तक मिल चुकी है पिछली लाक डाउन में वीआईपी रोड में शराब के कारण गोलीकांड जैसी घटना भी हो चुकी है। उन्होंने कहा कि लगता है लॉक डाउन सिर्फ गरीबों के लिए है । शराब कोचियों की तो अभी भी चांदी है।
भाजपा रायपुर जिला मीडिया प्रभारी अनुराग अग्रवाल ने कहा कि अब पुनः अवसर है अगर इस सरकार की इच्छाशक्ति हो तो शराब बंदी लागू हो सकती है। भाजपा जब-जब शराबबंदी की मांग करती है तो कांग्रेसी सरकार कहती है हम अचानक शराबबंदी लागू नहीं करेंगे। आज महीने से लॉक डाउन के कारण शराब दुकान बंद है। इस अवसर को अवैध रूप से शराब की कमाई का जरिया बनाने के बदले सरकार चरणबद्ध तरीके से शराबबंदी प्रारम्भ कर सकती है।  भाजपा रायपुर जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी व मीडिया प्रभारी अनुराग अग्रवाल ने प्रशासन से मांग की है कि वह बिना किसी दबाव में आए शहर में कच्ची व अवैध शराब की तस्करी रोके वरना किसी भी प्रकार की कोई बड़ी घटना हो सकती है जिसके लिए प्रशासन जिम्मेदार होगा।

error: Content is protected !!