भाजपा के पूर्वमंत्री व प्रवक्ता केदार कश्यप कोरोना महामारी के समय भी दे रहे है गैर जिम्मेदाना बयान : कांग्रेस

०० केदार कश्यप के झुंझलाये बयान से स्पष्ट है भाजपा असम चुनाव बड़े अंतराल से हार रही है

०० भाजपा आईटी सेल के राष्ट्रीय संयोजक अमित मालवीय मानसिक अवसाद के संक्रमण से गुजर रहे है ईलाज की आवश्यकता है

०० कोरोना महामारी में भाजपा आईटी सेल प्रधानमंत्री की असफलता को अफवाह फैलाकर ढकने का काम कर रही है

०० अमित मालवीय बताये की पीएम केयर फंड और राहत कोष देने में मोदी सरकार छत्तीसगढ़ के साथ सौतेला व्यवहार क्यो कर रही है

रायपुर| छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता एवं सचिव विकास तिवारी ने भाजपा के पूर्व मंत्री एवं भाजपा प्रवक्ता केदार कश्यप के बयान पर पलटवार करते हुए कहा है कि कोरोना महामारी के समय केदार कश्यप दूषित राजनीति का उदाहरण प्रस्तुत कर रहे हैं और जब पूरा प्रदेश कोरोना संक्रमण से गुजर रहा है तो वह दोयम दर्जे की राजनीति कर जनता को गुमराह करने का काम करने का प्रयास कर रहे हैं छत्तीसगढ़ राज्य में जहां एक ओर रेमडेसीविर इंजेक्शन आइवरमेकटीन,फेबिपिरावीर टेबलेट की कमी है जिसका उत्पादन केंद्र की मोदी सरकार करवाती है और लगातार इन दवाओं का प्रदेश में पर्याप्त मात्रा में सप्लाई संकट हो गया है कोरोना संक्रमित मरीजों को आज इन जीवन रक्षक दवाओं की आवश्यकता है तो पूर्व मंत्री केदार कश्यप को बयानबाजी छोड़कर देश के प्रधानमंत्री और अपने पार्टी के नेता नरेंद्र मोदी से अनुरोध कर छत्तीसगढ़ वासियों को रेमडेसीविर इंजेक्शन को ज्यादा से ज्यादा मात्रा में दिलवाने हेतु प्रयास करना चाहिए और केदार कश्यप के बयान से स्पष्ट है कि भाजपा ने असम में अपनी बड़ी अंतर की हार मान चुकी है इस कारण केदार कश्यप तिलमिलाहट भरे लहजे में बयानबाजी कर रहे हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि भाजपा आईटी सेल के राष्ट्रीय संयोजक अमित मालवीय द्वारा ट्विटर में छत्तीसगढ़ राज्य की जनता को अपमानित करने का प्रयास किया और कहा कि छत्तीसगढ़ राज्य में लोग नक्सलियों के हाथों मर रहे हैं और कोरोना महामारी से जबकि नक्सलियों से लोहा लेते हुए 22 जवानों ने अपने प्राणों की आहुति दी और नक्सलियों के मांद में घुसकर उनकी उनको चुनौती दी केंद्रीय बलों द्वारा निर्धारित किये गये इस ऑपरेशन को केंद्र सरकार के गृह विभाग ने अमलीजामा पहनाया था जिसमें छत्तीसगढ़ सरकार ने मदद किया था प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी के समय कहा था कि नोटबंदी से नक्सलियों की कमर टूट गई है नक्सलवाद खत्म हो जाएगा तो अब भाजपा बताये की नक्सलियों के टूटे कमर में बल कैसे मिल रहा है अमित मालवीय को अपने पार्टी के नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गृह मंत्री अमित शाह से पूछना चाहिए कि नोटबंदी से जब नक्सलियों की कमर टूट चुकी थी तो अब उनकी कमर में जान कैसे आ गई और किन कारणों से 22 जवानों की शहादत हुई इसका भी जवाब वह गृह मंत्री अमित शाह से लें।लगातार दूषित बयान बाजी कर अपने मानसिक अवसाद को प्रदर्शित करने वाले अमित मालवीय को कांग्रेस प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि वह अपना मानसिक अवसाद के संक्रमण का इलाज कराएं और उनके ईलाज में जो भी खर्चा आयेगा उसे वह भुगतान करने के लिये तैयार हैं कोरोना महामारी के कठिन समय में भाजपा नेता दूषित बयानबाजी कर देश की जनता को गुमराह ना करें और छत्तीसगढ़ राज्य का अपमान ना करें।

error: Content is protected !!