कोरोना टेस्टिंग के दौरान नाम पता और मोबाइल नंबर की सही जानकारी लेना जरूरी

०० नालंदा परिसर में भी कांटेक्ट ट्रेसिंग का कार्य शुरुजानकारी सही ना देने वालों पर होगी कार्यवाही

रायपुर| रायपुर जिले में कोरोना के रोकथाम ओर नियंत्रण की दृष्टि से आज से रायपुर के नालंदा परिसर में भी कांटेक्ट ट्रेसिंग का कार्य शुरु किया गया। अपर कलेक्टर  और नोडल अधिकारी श्रीमती पदमिनी भोई नने बताया कि कोरोना पाजिटिव आए लोगोंसे उनके संपर्क में आए कम से कम 20 लोंगो की कांटेक्ट हिस्टी ली जा रही है। कान्टेक्ट ट्रेसिंग के लिए सिविल लाईन के न्यू सर्किट हाउस में   पूर्व से ही 24 घंटे कंट्रोल रूम संचालित किया जा रहा है।

नोडल अधिकारी  श्रीमती पदमिनी भोई ने बताया कि कांटेक्ट ट्रैसिंग के जरिए कोरोना नावायरस के संक्रमण के फैलाव काफी हद तक रोका जा सकता है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि कोरोना टेस्टिंग के समय अपना नाम, पता और मोबाइल नम्बर की सही जानकारी दी जाए। कोरोना की  सर्वाधिक संभावना, उन लोगों में होती है जो या तो संक्रमित व्यक्ति के साथ रह रहे हो या उसके आसपास हो अर्थात उसके संपर्क में आने वाले सभी व्यक्तियों में संक्रमण के फैलाव की संभावना बहुत ज्यादा होती हैअपर कलेक्टर ने बताया कि कोरोना की रोकथाम एवं नियंत्रण के लिए कांटेक्ट ट्रेसिंग का कार्य काफी महत्तवपूर्ण है । कांटेक्ट टैस्टिंग के दौरान सही जानकारी देने से कोरोना के चेन को तोड़ने मे मदद मिलती है। कुछ लोग कोरोना टेस्ट के दौरान जानबूझकर अपना सही टेलिफोन नम्बर एवं पता नहीं देते हैं जो समाज के लिए भी खतरनाक है।उन्होंने कहा कि टेस्ट के दौरान अपना नाम पता और मोबाइल नंबर की सही जानकारी न देने पर पुलिस विभाग द्वारा कार्यवाही की जाएगी। उन्होंने बताया की सही जानकारी ना देने वाले कुछ लोगों की सूची भी पुलिस को दी जाकर कार्यवाही हेतु कहा गया है।

error: Content is protected !!