कोविड वैक्सीन लगाने से बच सकते हैं कोरोना संक्रमण की गंभीर स्थिति से

०० अब तक कुल आबादी के लगभग10 प्रतिशत को पहली डोज लग चुकी

रायपुर| राज्य की लगभग 10 प्रतिशत आबादी को कोविड 19 वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है। स्वास्थ्य विभाग का लक्ष्य है कि  इस माह के अंत तक 45से अधिक आयु समूह ,जो कुल आबादी का 20 प्रतिशत हैके सभी 58 लाख 66 हजार 599 लोगों को पहली डोज देकर सुरक्षित कर लिया जाए। अभी तक इस आयु समूह के 25 लाख 25 हजार 833 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है फिर भी अभी कुछ लोगों के मन में तरह- तरह की भा्रंतियां है कि इससे प्रजनन क्षमता में असर होगा या कि बीमार नही है तो क्यों लगवाएं,या कि इससंे और बीमार पड़ जाएंगे या कि तबीयत खराब है आदि -आदि ।
विश्व स्वास्थ्य संगठनयूनीसेफविभिन्न विशेषज्ञ चिकित्सकभारत सरकार के ड्रग रेगुलेटर अथारिटी सभी यह कह रहे हैं कि यह वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है और आवश्यक मानदंडों का पालन करते हुए तैयार की गई है। इसके अलावा इसको लगाने के बाद होने वाले विपरीत प्रभाव नगण्य हंै। यह गर्भवती और शिशुवती माताओं को छोड़कर या जो अस्पताल में भर्ती हों ,कोरोना संक्रमित हैं या जिन्हे गंभीर प्रकार की एलर्जी हैइन समूहों को छोड़कर सभी व्यक्ति इसे लगवा सकते है। ह्दय रोगकिडनी रोग से पीड़ित मरीज भी इसे लगा सकते है। यह एक वैज्ञानिक प्रमाण है कि वैक्सीन की दोनो डोज लगने के बाद यदि किसी को कोरोना संक्रमण होता है तो उसकी स्थिति उतनी गंभीर नही होती जितनी बिना टीका लगे मरीजांे की हो रही है।  वैक्सीनेटेड व्यक्ति यदि संक्रमित होता है तो उसे मामूली लक्षण आएंगे लेकिन गंभीर बीमार नही होगा। आई सी यू में तैनात चिकित्सकों का कहना है कि अभी जितने गंभीर मरीज आ रहे हैं उनमें शायद ही कोई हो जिसे वैक्सीन की दोनो डोज लगी हो और वे गंभीर स्थिति में हो। इसाीलिए पात्र लोगों को वैक्साीन जल्दी लगाना चाहिए ताकि संक्रमण होने पर भी अस्पताल पहंुचने की नौबत न आए।

error: Content is protected !!