छत्तीसगढ़ लौटने और जनता की सुध लेने की नसीहत सीएम को दें कांग्रेस : उमेश घोरमोड़े

०० कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह के बयान पर भाजपा का पलटवार

रायपुर। भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश मीडिया प्रभारी उमेश घोरमोड़े ने कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि आपदा को अवसर में बदलना और आपदा में भी राजनीति करना कांग्रेस के नेताओं का चरित्र रहा हैं। जनता कर्फ्यू के विरोध से लेकर प्रवासी मजदूरों की घर वापसी तक और वैक्सिन पर सवाल खड़ा कर देश के महान वैज्ञानिकों के पराक्रम पर सवाल करने तक कांग्रेस के नेताओं ने आपदा में भी राजनीति करने और सियासी रोटी सेकने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ी।

भाजयुमो के प्रदेश मीडिया प्रभारी उमेश घोरमोड़े ने कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह को चुनौती देते हुए कहा कि उन्हें पहले छत्तीसगढ़ की चिंता करनी चाहिए और स्वास्थ्य मंत्री से पूछना चाहिए कि राजधानी रायपुर, मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के गृह जिले दुर्ग सहित प्रदेश के कई हिस्से में टेस्टिंग किट के आभाव के चलते क्यों कोरोना जांच नहीं हो पा रहीं हैं? समय पर टेस्टिंग नहीं हो पाने, समय से रिपोर्ट नहीं मिलने के कारण मौत के आंकड़े बढ़ने का जिम्मेदार कौन हैं? बीते एक वर्ष में छत्तीसगढ़ सरकार ने कोविड 19 की दृष्टि से क्या तैयारियां की हैं? प्रदेशभर से बिस्तर, ऑक्सीजन और आईसीयू वार्ड की कमी और अव्यवस्था की जानकारियां क्यों आ रही हैं? उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता हर मामले में अपनी विफलता छुपाने अपनी ही पीठ स्वयं थप थपाने और केंद्र पर ठीकरा फोड़ने के आदि हो चुके हैं। क्यों प्रदेश में प्रारंभिक दिनों में टीकाकरण को लेकर उदासीनता दिखी? क्यों स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव जी ने टीकाकरण पर भ्रम फैला कर छत्तीसगढ़ की जनता को भयभीत किया और कोरोना के विरुद्ध लड़ाई को कमजोर करने का काम किया? उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता किस मुह से आज टीकाकरण की बात कर रहे हैं तब क्या कांग्रेस के नेताओं के मुह में दही जम गया था जब उनके नेता देश के महान वैज्ञानिकों के पराक्रम पर सवाल उठा रहे थे। उन्होंने कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह से पूछा हैं कि छत्तीसगढ़ की सरकार यदि टीकाकरण को लेकर प्रारम्भ से राजनीति नहीं कर रही होती तो क्या आज छत्तीसगढ़ को यह दिन देखना पड़ता? भाजयुमो प्रदेश मीडिया प्रभारी उमेश घोरमोड़े ने कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह को याद दिलाते हुए कहा कि जब कोरोना के मामले बड़ रहे थे तब छत्तीसगढ़ सरकार क्रिकेट मैच क्यों करवा रही थी? क्यों फ्री में मैच के पास बांट कर कोरोना को निमंत्रण दिया जा रहा था? क्या गुजरात की तर्ज पर छत्तीसगढ़ में भी बिना दर्शकों के मैच नहीं करवाया जा सकता था क्या? भाजयुमो प्रदेश मीडिया प्रभारी उमेश घोरमोड़े ने कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह से प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को नसीहत देने और शीघ्र छत्तीसगढ़ लौटकर छत्तीसगढ़ की जनता की सुध लेने की सलाह देने कहा हैं।

error: Content is protected !!