कल जैसे ही आंकड़े आने लगे तो लॉकडाउन पर सोचना चाहिए, यह बहुत गंभीर स्थिति : टीएस सिंह देव

०० दुर्ग जिले में कल आये संक्रमण के आंकड़ों को लेकर जताई चिंता, स्वास्थ्य मंत्री ने कहा एक दिन के टेस्ट में वहां प्रत्येक दो में से एक व्यक्ति पॉजिटिव

रायपुर| छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के ताजा आंकड़ों ने सरकार को हिलाकर रख दिया है। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने आज कहा कि संक्रमण की यह बहुत गंभीर स्थिति है कल जैसे ही आंकड़े सामान्य तौर पर आने लगे तो सरकार को लॉकडाउन पर विचार करना चाहिये। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, कल कम टेस्ट हुये थे। उसमें भी दुर्ग में 45.9 प्रतिशत लोग पॉजिटिव पाये गये। यानी वहां टेस्ट कराने वाले प्रत्येक दो व्यक्तियों में एक व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। यह स्थिति बहुत गंभीर है। यह एक दिन का आंकड़ा है। अगर ऐसा ही सामान्य तौर पर आने लगे तो सरकार को लॉकडाउन पर गंभीरता से विचार करना चाहिये।

हालांकि सिंहदेव ने यह भी कहा, सैद्धांतिक तौर पर देखें तो दुनिया में पहले लॉकडाउन हुए हैं लॉकडाउन आज भी हो सकता है लेकिन लॉकडाउन को लेकर दुनिया ने यह अनुभव किया है कि यह समस्या का हल नहीं है। बहुत गंभीर स्थिति बन तो ऐसा किया जा सकता है। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने प्रदेश भर में औसत पॉजिटिविटी दर को भी चिंताजनक बताया। उन्होंने कहा, मार्च महीने के पहले सप्ताह में राज्य का पॉजिटिविटी रेट 0.99 प्रतिशत था। दूसरे सप्ताह में यह थोड़ा बढ़कर 1.6 प्रतिशत तक पहुंचा। तीसरे सप्ताह में यह 1.8 प्रतिशत था लेकिन चौथे सप्ताह में यह 6 प्रतिशत पर चला गया है। उन्होंने कहा 7 मार्च से 28 मार्च के बीच पॉजिटिविटी रेट के एक प्रतिशत से 6 तक बढ़ते चला जाना बड़ी चिंता का विषय है। ज्ञात हो कि सोमवार को होली थी। प्रदेश भर में कोरोना के कुल 8 हजार 283 टेस्ट हुये। लेकिन जो परिणाम आये वह भयावह थे। प्रदेश भर में 1423 नये संक्रमण के मामले सामने आये। इसमें से तमाम एक-दो दिन पहले किये गये टेस्ट की रिपोर्ट से आये हैं। कुछ जिलों में यह आंकड़े सामान्य की सीमा से अधिक दिखे। दुर्ग जिले में 1108 टेस्ट में 509 पॉजिटिव मिले यानी करीब 46 प्रतिशत। बेमेतरा में 73 टेस्ट में 38 पॉजिटिव माने 50 प्रतिशत से अधिक। बलौदा बाजार में 31 जांच हुई वहीं 10 पॉजिटिव मिले। दर 30 प्रतिशत। वहीं बिलासपुर और कबीरधाम में यह दर 20 प्रतिशत रही। रायपुर में टेस्ट नहीं हुये लेकिन पिछले दिनों के टेस्ट के परिणाम आये। कुल 442 लोग पॉजिटिव पाये गये। संक्रमण की रफ्तार को देखते हुए 28 मार्च की बैठक में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश में नाइट कर्फ्यू लगाने का फैसला किया था। स्थानीय परिस्थितियों के अनुसार इसका फैसला करने के लिये कलेक्टरों को अधिकृत किया गया था। आज दोपहर तक प्रदेश के तीन जिलों जशपुर, सूरजपुर और अम्बिकापुर ने नाइट कर्फ्यू का आदेश जारी कर दिया था। सर्वाधिक प्रभावित जिलों दुर्ग और रायपुर में अभी इसका आदेश नहीं हुआ है।

error: Content is protected !!