भाजपा के केन्द्र से धान खरीदी में बाधा डालने और छत्तीसगढ़ में मांग करने भाजपा के दोहरे चरित्र को अब किसान समझ चुके है : कांग्रेस

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि आज प्रदेश में सभी जिला मुख्यालयों में कांग्रेस के पदाधिकारियों और जनप्रतिनिधियों ने पत्रकारवार्ता लेकर कांग्रेस सरकार की किसान न्याय योजना और गोधन न्याय योजना की जानकारी देने में काम किया है। केंद्र की भाजपा की सरकार का किसान विरोधी चरित्र बेनकाब हो चुका है। छत्तीसगढ़ भाजपा किसानों के साथ होने का दिखावा करना बंद करें। छत्तीसगढ़ में मांग करने और केंद्र से रोक लगाने की भाजपा की दोहरी भूमिका अब किसान समझ चुके हैं। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल राजीव गांधी किसान न्याय योजना पर रोक लगाने की बात करते हैं तो भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रमन सिंह, भाजपा विधायक दल के नेता धरमलाल कौशिक, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदेव साय क्यों हैं खामोश? छत्तीसगढ़ भाजपा किसानों के साथ होने का दिखावा करना बंद करें।

शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना किसानों की समृद्धि का आधार बन चुकी है। भाजपा और केन्द्र की मोदी सरकार छत्तीसगढ़ के किसानों के धान के इतने ज्यादा विरोध में उतर आये हैं कि राज्य के किसानों का धान से बना चांवल न तो खुद ले रहे है और न ही उससे एथेनॉल बनाने की अनुमति देना चाहते है भाजपा की केंद्र सरकार के साथ-साथ रमन सिंह सहित तमाम भाजपा नेता किसानों के विरोध में है। राजीव गांधी किसान न्याय योजना कि 1104 करोड़ की राशि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जारी की है। इसके साथ-साथ गौ-धन न्याय योजना की राशि भी जारी की गयी है। प्रदेश में किसानो को कांग्रेस की सरकार मदद कर रही है, किसानो को प्रोत्साहन दे रही है। समर्थन मूल्य में धान की खरीदी हो रही है। धान, मक्का, गन्ना 14 फसलों के किसानों को राजीव गांधी किसान न्याय योजना दस हजार रूपये प्रति एकड़ का लाभ कांग्रेस सरकार दे रही है। आज प्रदेश में पूर्व की भाजपा सरकार के ठीक विपरित वातावरण बना है। भाजपा शासन में कर्ज के बोझ से रोज 4 किसान आत्महत्या करते थे, आज छत्तीसगढ़ के किसान खुशहाल है। केन्द्र की भाजपा सरकार ने कहा था कि 2022 तक किसानों की आय दुगुनी करेंगे। कैसे करेगी अभी तक कुछ अता पता नही है? भाजपा ने यह भी कहा था कि स्वामीनाथन कमेटी की सिफारशों के मुताबिक लागत मूल्य पर 50 प्रतिशत जोड़कर  समर्थन मूल्य पर जो धान की खरीदी की जायेगी, उस दिशा में भी भाजपा सरकार ने कुछ नही किया। छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार किसानों के न केवल समर्थन मूल्य पर खरीद कर रही है बल्कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना के द्वारा धान उगाने वाले किसानों, धान, गन्ना, मक्का के फसल उगाने वाले सब किसानों को प्रोत्साहन राशि दे रही है। भूमिहीन मजदूरों को गोबर का पैसा मिल रहा है। पशुपालको को पैसा मिल रहा है। छत्तीसगढ़ कांग्रेस ने एक-एक व्यक्ति तक राज्य सरकार की इन उपलब्धि की जानकारी को पहुंचाने का निर्णय लिया है। भूमिहीन कृषि मजदूरों को गोधन न्याय योजना से लाभ मिल रहा है। गोधन न्याय योजना से प्रदेश के 1 लाख 62 हजार 1491 पशुपालकों के साथ-साथ 70299 भूमिहीनों भी लाभांवित हुये है जिनमे 44.55 प्रतिशत महिलायें है। 15 मार्च तक 1 लाख 18 हजार 611 वर्मी कम्पोस्ट का उत्पादन गोधन न्याय योजना में किया जा चुका है। त्रिवेदी ने कहा है कि गौ-धन योजना राष्ट्रीय स्तर पर और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर स्वीकृति भी मिल रही और प्रशंसा भी मिल रही है। केन्द्रीय सदन के कृषि मामलों की समिति ने भी इसकी प्रशंसा की है। इसे राष्ट्रीय स्तर पर भी लागू करने पर विचार कर रही है। स्कॉच पुरूस्कार से भी गौ-धन न्याय योजना को सम्मानित किया गया है। इस प्रकार इस योजना से बहुत बड़ा परिवर्तन पशुपालन के क्षेत्र में देखने मिला है। पशुपालकों के बैंक खाते में गोबर खरीदी की राशि दी जा रही है। भूमिहीन मजदूर गोबर जमा करके उसे 2 रूपये किलो में बेचकर लाभांवित हो रहे है। इसी के साथ-साथ इस योजना से तुलना यदि पूर्ववर्ती भाजपा सरकार से करे जब उस समय भाजपा और आरएसएस के लोगो के द्वारा संचालित डेयरी को करोड़ो का अनुदान दिया जाता था। और उन डेयरी में गौ हत्या तक की घटनायें होती थी। धमधा की घटना को अभी छत्तीसगढ़ के लोग भूले नही है। लेकिन आज पशुपालक भी लाभांवित हो रहे है, गौ सेवा भी हो रही है और गरीब भी लाभांवित हो रहे है।

error: Content is protected !!