मुनगेसर में बह रही है श्रीमद् भागवत कथा की बयार, श्रीकृष्ण जन्मोत्सव, दही हांडी लूट व रूखमणी विवाह का किया मनोहारी वर्णन

रायपुर| बजरंग चौक बस्ती पारा मुनगेसर में भागवत कथा पिछले पांच दिनों से जारी है, कार्यक्रम के छठवें दिन बुधवार को परायण कर्ता पंडित अमन पांडेय व कथा वाचक पंडित संतोष चौबे ने श्री कृष्ण जन्मोत्सव, दही हांडी लूट व श्रीकृष्ण रूखमणी विवाह का मनोहारी वर्णन किया। 20 मार्च तक चलने वाले इस भागवत कथा में प्रतिदिन महिलाओं की संख्या काफी अधिक रहती है।

कथा वाचक ने कृष्ण जन्मोत्सव की जानकारी देते हुए कहा जब जब धर्म की हानी होती है तब संसार में सज्जनों का कल्याण करने व राक्षसों का वध करने भगवान अवतार लेते हैं, श्री कृष्ण ने जेल में वासुदेव के यहा अवतार लेकर संतो व भक्तों का मान बढ़ाया। जब भक्ति मार्ग में भक्त लीन रहता है तब प्रभु के दर्शन होते हैं, श्री कृष्ण के जन्मोत्सव के तमाम मार्मिक प्रसंग सुनाये। दही हांडी लूट का वर्णन करते हुए पंडित संतोष चौबे ने बताया भगवान श्रीकृष्ण बचपन से ही काफी चंचल व नटखट थे। माखन काफी प्रिय थे, बालपन में वह पड़ोसियों के घरों से मक्खन चुराया करते थे, इसके चलते उनका नाम माखन चोर भी पड़ गया, भगवान कृष्ण सभी के घर माखन चुराया करते थे।

कृष्णा रूखमणी विवाह :-  रुक्मणी विवाह महोत्सव प्रसंग पर व्याख्यान करते हुए उन्होंने कहा कि रुक्मणी के भाई उनका विवाह शिशुपाल के साथ सुनिश्चित किया था, लेकिन रुक्मणी ने संकल्प लिया था कि वह शिशुपाल को नहीं केवल गोपाल को पति के रूप में वरण करेंगे। इस दौरान विवाह की झांकी ने सभी को खूब आनंदित किया। आयोजन ने श्रद्धालुओं को झूमने पर मजबूर कर दिया। इस दौरान श्रीकृष्ण जन्मोत्सव की मनोरम झांकी निकाली गई।

error: Content is protected !!