माता-पिता के अंश से व्यक्ति का आस्तित्व : डॉ किरणमयी नायक

00 महिलाओ के साथ सभी कोसभी का सम्मान करना परिवार और समाज के कल्याण के लिए जरूरी
रायपुर। राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डॉ किरणमयी नायक (कैबिनेट मंत्री दर्जा) ने महिला दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएं देते हुए कहा है कि महिला दिवस पर हम केवल महिलाओं के सम्मान की बात करते हैं। महिलाओं की अधिकारों और उनकी सुरक्षा की बात करते हैं। पर क्या वास्तव में महिला दिवस की बधाई केवल महिलाओं को देने से बात समाप्त हो जाती है..? नहीं, महिला भी समाज का एक प्रमुख अंग है, और पुरुष और महिला दिवस की जब हम बधाई की बात करते हैं तो सभी इंसान में महिला और पुरुष दोनों के अंश बराबरी से होते हैं।

एक पुरुष का निर्माण उसके माता-पिता के आधे आधे अंगों से होता है उसी तरह महिला का भी निर्माण होता है, तो सभी पुरुष में महिला तत्व आवश्यक रूप से होता है। इसलिए इस बार महिला दिवस की बधाई हर वर्ग को समान रूप से और आप सभी से अपेक्षा कि महिलाओं का सम्मान करने के संस्कार बच्चों को घर में, अपने आस-पड़ोस में निरंतर दें। ताकि सभी व्यक्ति-महिला चाहे वह बेटी के रूप, में हो, चाहे बहन के रूप में, मां के रूप में,दोस्त के रूप में या पत्नी के रूप में सभी को पूरा सम्मान दें। जब हम ऐसा करेंगे तब हमारे घर,परिवार का माहौल खुशनुमा होगा और जब घर परिवार खुशनुमा होगा तो समाज खुशनुमा होगा।आज के दिन यदि हम निर्णय ले लें और एक व्यक्ति भी ऐसा बदलाव लाता है,तो निश्चित रूप से एक नई शुरुआत होगी और महिलाओं से,बेटियों से और बहनों से कहना चाहती हूं कि आप सभी अपने आप को प्यार करना सीखें। खुश रहना सीखे, स्वस्थ रहना सीखे और हमेशा खुशहाल रहे, प्रसन्न रहे आप सभी को महिला दिवस की बहुत बहुत बधाई।

error: Content is protected !!