राज्यसभा सांसद श्रीमती फूलों देवी नेताम ने राज्यसभा में  विशेष  उल्लेख के माध्यम से दूरदर्शन द्वारा छत्तीसगढी भाषा का पृथक चैनल बनाए जाने का मामला उठाया

रायपुर। छत्तीसगढ से राज्यसभा सांसद फूलोदेवी नेताम ने राज्यसभा में विशेष उल्लेख के माध्यम से दूरदर्शन द्वारा छत्तीसगढ़ी भाषा का पृथक चैनल बनाए जाने का मामला उठाया। राज्यसभा सांसद फूलोदेवी नेताम ने कहा कि छत्तीसगढ को पृथक राज्य बने 20 साल हो चुके हैं। इस दौरान छत्तीसगढ़ी भाषा के विकास को लेकर कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए।

राज्यसभा सांसद फूलोदेवी नेताम ने कहा कि विभिन्न राज्यों में स्थानीय भाषाओं में प्रसारण हेतु दूरदर्शन के अलग-अलग चैनल हैं जिसमें वहां की स्थानीय भाषा में प्रसारण किया जाता है। लेकिन छत्तीसगढ में दूरदर्शन द्वारा ऐसा चैनल नहीं चलाया जा रहा जिसमें केवल छत्तीसगढ़ी भाषा में प्रसारण हो। जबकि निजी क्षेत्र के क्षेत्रीय चैनलों पर छत्तीसगढ़ी भाषा में प्रसारण किया जा रहा है। राज्यसभा सांसद फूलोदेवी नेताम ने यह भी कहा कि छत्तीसगढ में एक ऐसे चैनल की आवश्यकता है जो यहां की कला, संस्कृति को सहेजने के साथ-साथ कलाकारों के हितों को भी संरक्षित करें और छत्तीसगढ़ में दूरदर्शन इस आवश्यकता को पूर्ण करने में सक्षम है। राज्यसभा सांसद फूलोदेवी नेताम ने सदन के माध्यम से मांग की है कि दूरदर्शन द्वारा छत्तीसगढ़ी भाषा में प्रसारण के लिए पृथक चैनल चलाया जाए जिससे छत्तीसगढी भाषा के साथ-साथ स्थानीय कलाकारों, गायकों, निर्माताओं का भी विकास हो सकेगा।

error: Content is protected !!