बाजार में अस्पताल, मौके पर ही उपचार : मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लिनिक योजना से लोगों को मिल रहीं है ग्राम स्तर पर चिकित्सा सुविधा

०० 56 हाट-बाजारों में शिविर लगाकर 64 हजार 600 मरीजों का उपचार
रायपुर| दूरस्थ एवं पहंुचविहिन क्षेत्रों के ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधा मुहैय्या कराने के उद्देश्य से राज्य शासन द्वारा मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लिनिक योजना की शुरूआत 02 अक्टूबर 2019 को किया गया हैजिससे बाजार स्थल में ही ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधा का लाभ मिल रहा है। प्रायः यह देखा जाता है कि ग्रामीण अपनी छोटी-मोटी बीमारियों के इलाज के लिए बाजार वाले दिन को प्राथमिकता देते हैं। इसे दृष्टिगत करते हुए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा हाट-बाजार वाले स्थानों में आए ग्रामीणों को स्वास्थ्य सुविधा मुहैय्या कराने इस योजना की शुरूआत की गई है। शिविर प्रारंभ होने से लेकर अब तक कांकेर जिले में 64 हजार 617 मरीजों का उपचार हाट-बाजारों के क्लिनिक में किया गया है।  जिले के सभी सातों विकासखण्डों के चिन्हांकित 56 हाट-बाजारों में स्वास्थ्य विभाग द्वारा शिविर लगाकर ग्रामीणों का स्वास्थ्य परीक्षण कर उनका उपचार एवं दवाई का निःशुल्क वितरण किया जा रहा है। जिला प्रशासन द्वारा अब सभी सातो विकासखण्डों के लिए एम्बुलेंस की सुविधा भी उपलब्ध करा दी गई है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल द्वारा 28 जनवरी गोविंदपुर में आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री हाट-बाजार योजना के लिए एम्बुलंेस को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया गयासभी एम्बुलेंस अपने निर्धारित मुख्यालय में पहुंच चुके हैं।
मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. जे.एल उईके ने बताया कि जिले में अब तक 2756 शिविरों का आयोजन कर 64 हजार 617 मरीजों का उपचार किया गया एवं निःशुल्क दवाईयां दी गई। शिविर में सर्दीखांसीबुखार जैसी सामान्य बीमारियों के स्वास्थ्य परीक्षण के अलावा मलेरियाटी.बी.एचआईव्हीरक्तचापमधुमेहरक्ताल्पताकुष्ट रोगनेत्र विकारडायरिया सहित गर्भवती महिलाओं एवं शिशुओं का टीकाकरण करने के अलावा स्वास्थ्य संबंधी परामर्श देकर तथा इलाज कर उन्हें निःशुल्क दवाइयां दी जाती हैं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लिनिक योजना के अंतर्गत जिले के ऐसे ग्राम जहां हाट-बाजार लगते हैं तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र एवं सामुदायिक स्वास्थ्य कन्द्रों से दूर हैंवहां  स्वास्थ्य विभाग द्वारा शिविर लगाकर ग्रामीणों को चिकित्सकीय सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैजिसका लाभ ग्रामीणों को मिल रहा है। जिले के चारामाभानुप्रतापपुरकांकेरनरहरपुरकोयलीबेड़ादुर्गूकोंदल और अंतागढ़ विकासखण्ड के हाट-बाजारों में स्वास्थ्य अमला पहंुचकर शिविर लगाते हैं और मरीजों का उपचार कर उन्हें निःशुल्क दवाईयां दी जाती है एवं आवश्यक चिकित्सा परामर्श भी दिया जाता है। डॉ. उइके ने बताया कि जिले में अब तक 2756 शिविर लगाये गये हैंजिनमें 64 हजार 617 की व्यक्तियों उपचार किया गया। अंतागढ़ विकासखण्ड में 278 शिविर लगाकर 6044 मरीजों का उपचार किया गया। इसी प्रकार नरहरपुर विकासखण्ड में 356 शिविर लगाकर 9924 मरीजचारामा विकासखण्ड में 161 शिविर लगाकर 18778 मरीजभानुप्रतापपुर विकासखण्ड में 340 शिविर लगाकर 9763 मरीजदुर्गूकोंदल विकासखण्ड में 333 शिविर लगाकर 7330 मरीजकांकेर विकासखण्ड में 191 शिविर लगाकर 5438 मरीज तथा कोयलीबेड़ा विकासखण्ड में 283 शिविर लगाकर 7340 मरीजों का उपचार किया गया एवं निःशुल्क दवाईयां दी गई। मुख्यमंत्री हाट-बाजार क्लिनिक योजना से जिले के अंतिम छोर के गांव तक भी स्वास्थ्य सुविधा की पहंुच सुलभ हो गई हैजिसका लाभ ग्रामीणों को आसानी से मिल रहा है।

error: Content is protected !!