प्लास्टिक कचरा कैंसर का सबसे बड़ा कारण- डॉ सिंह

लोगों से की जागरूक होनेे की अपील

मनेन्द्रगढ़। कोरिया जिला के पर्यटन केंद्रों पिकनिक स्पॉट में सैलानियों के द्वारा फैलाने वाले प्लास्टिक बॉटल्स और थर्माकोल प्लास्टिक प्लेट्स से पर्यावरण और जल प्रदूषण आने वाले समय मे पूरे जिले में एक विकराल समस्या बनकर उभरेगा समय रहते इनके उचित प्रबंधन की व्यव्स्था अगर नहीं की गई तो आने वाले समय मे जिले की एक बहुत बड़ी आबादी में कैंसर जैसे विकराल बीमारी के चपेट में आने की संभावना बहुत बढ़ जाएगी और आने वाली पीढ़ियों में गंभीर बीमारियों के लक्षण आम हो चलेगा। उक्ताशय के विचार जनपद पंचायत मनेन्द्रगढ़ के अध्यक्ष और पेशे से चिकित्सक डॉ विनय शंकर सिंह व्यक्त कर रहे थे। डॉ सिंह ने आगे बताया कि मैं पेशे से एक दंत चिकित्सक हूँ और देख रहा हूँ कि विगत के वर्षों में मुख कैंसर इस प्रकृति की गोद मे बसे कोरिया जिले में जिस तेज गति से पैर पसारा है उससे भी तेज गति से शरीर के अन्य अंगों में कैंसर के भयावह लक्षण देखने को मिलेंगे और इन सबके पीछे कारण होगा बहुत तेज गति से हमारे जीवन शैली में होने वाला बदलाव। आज हम कोरिया जिले वासी अपने परिवार और मित्रों के साथ पिकनिक स्पॉट और पर्यटन स्थलों में जाते हैं। खाते पीते मस्ती एन्जॉय करते हैं और जब वापस आते हैं तो हम अपने पीछे छोड़ आते हैं प्लास्टिक और थर्मोकोल के कचरे। और यह कचरा नदी के जल में प्रवाहित होकर आगे बढ़ते हुए स्टॉप डैम तक रुकता है।नदियों के किनारे रेत में दबा रहता है जब आने वाले दिनों में गर्मी बढ़ेगा तापमान बढ़ेगा तो यही रेत के नीचे दबे कचरो के द्वारा विभिन्न प्रकार के विषैले रासायनिक पदार्थो का उत्सर्जन होगा जो पानी मे मिलकर पुनः पीने के लिए शहरी पाइप लाइनों के माध्यम हम और हमारे परिवार तक पहुँचेगा। शहरी फिल्टर प्लांट में एलम के माध्यम से पानी की सफाई की जाती है जो पानी मे घुल चुके इन रासायनिक जहर को साफ करने में असमर्थ हैं।
आप खुद ही अंदाजा लगा सकते हैं कि पर्यावरण के प्रति इतनी गंभीर लापरवाही आने वाले समय मे हमे और हमारी पीढ़ियों को तबाह करने के लिए काफी हैं।इसलिए कैंसर जैसे भयावह बीमारी से पूरे मानव समुदाय पूरे कोरिया जिला वासियों को अगर बचाना है तो पर्यावरण सुरक्षा,पिकनिक स्पॉट की सफाई व्यवस्था पर हम सभी को सोचना पड़ेगा हम सबको इसमें अपनी अपनी सहभागिता भी निभानी पड़ेगी हमे अपनी जिम्मेदारियों को भी समझना होगा।

error: Content is protected !!