नक्सल ऑपरेशन में शामिल कांस्टेबल को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन, बिलासपुर हाईकोर्ट ने दिए आदेश

०० दुर्ग एसटीऍफ़ में रहते जवान शामिल हुआ था नक्सल ऑपरेशन मेंसाथी जवानों को दिया गया था प्रमोशन

०० भेदभाव पूर्ण कार्रवाई के लिए कांस्टेबल ने हाईकोर्ट में दायर की थी याचिका, 90 दिन में निराकरण के निर्देश

रायपुर| हाईकोर्ट ने नक्सल ऑपरेशन में शामिल कांस्टेबल को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन देने के निर्देश दिए हैं। कोर्ट ने इस संबंध में डीजीपी, एडीजी, सीएसएफ और एसपी एसटीऍफ़ को 90 दिन में मामले का न्यायोचित निराकरण करने का आदेश दिया है। ऑपरेशन के बाद साथी जवानों को प्रमोशन दिया गया था। पुलिस कांस्टेबल ने इस भेदभाव पूर्ण कार्रवाई को लेकर याचिका दायर की थी।

राजनांदगांव में छुरिया के ग्राम जोधरा निवासी कुबेर सिन्हा दुर्ग में एसटीऍफ़ बघेरा में कांस्टेबल पद पर पदस्थ थे। इस दौरान कबीरधाम के धनबरा में हुए एक नक्सल ऑपरेशन में प्लाटून कमांडर दिलीप वासनिकसहायक प्लाटून कमांडर मनीष शर्माहेड कांस्टेबल मन्नाराम और बहादुर सिंह मरावी के साथ कुबेर सिन्हा को भी भेजा गया था। इस ऑपरेशन में जवानों ने एक नक्सली को मार गिराया था। डीजीपी  ने उस ऑपरेशन में शामिल सभी पुलिसकर्मियों को आउट ऑफ टर्न प्रमोशन दियालेकिन कुबेर सिन्हा को नहीं मिला। इस पर कुबेर ने अधिवक्ता अभिषेक पांडेय के माध्यम से हाईकोर्ट में रिट याचिका दायर की। इसमें कहा गया कि सभी जवान एक साथ एनकाउंटर में शामिल हुए। फिर भेदभाव पूर्ण कार्रवाई क्यों की गई। जबकि FIR, सहित रोजनामचा और अन्य दस्तावेजों में कुबेर सिन्हा का नाम दर्ज है।

error: Content is protected !!