जिले की सीमा पर रथयात्रा का हुआ भव्य स्वागत 100 बाईक सवारों में दिव्यांग युवाओं ने पूरे उत्साह के साथ की हिस्सेदारी

०० बच्चे युवा और बुजूर्गों ने पुष्प वर्षा से किया स्वागतपूर्ण श्रद्धा के साथ गाॅव की मिट्टी रामवन के लिए सौंपी
रायपुर| श्री राम वनगमन पर्यटन परिपथ पर्यटन रथयात्रा और विराट बाईक रैली आज महासमुंद जिले के सीमावर्ती ग्राम मुड़ियाडीह (औराई) पहुंची। जहां उसका भव्य स्वागत किया। जिले में यह रैली सीतामढ़ी हरचैका जिला कोरिया से प्रारंभ होकर लगभग 700 किलोमीटर की यात्रा पूरी कर बलौदाबाजार से जिला सीमा मुड़ियाडीह (औराई) पहुँची। छत्तीसगढ़ राज्य में पर्यटन को और बढ़ावा देने के लिए रथ यात्रा के आगे जिले की लगभग 100 बाईकर्स आगे चल रहें थे। इन बाईकर्स में दिव्यांग युवाओं ने भी अपनी पेट्रोल चलित पहिया वाहन लेकर शामिल हुए। उनका यह उत्साह देखने लायक था। सभी बाईकर्स का सिरपुर स्थित लक्ष्मण मंदिर प्रांगण में फोटोशूट किया गया। इस दौरान अध्यक्ष छत्तीसगढ़ राज्य वन विकास निगम एवं विधायक बसना श्री देवेन्द्र बहादुर सिंहजिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती ऊषा पटेल भी मौजूद थे। बच्चंेयुवा और बुजूर्गों ने पुष्प वर्षा से किया स्वागतपूर्ण श्रद्धा के साथ गाॅव की मिट्टी रामवन के लिए सौंपी।
जिले की सीमा पर रथ यात्रा आगमन पर कलेक्टर श्री कार्तिकेया गोयलजिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी डाॅ. रवि मित्तलवन मण्डलाधिकारी श्री पंकज राजपूतअपर कलेक्टर श्री जोगेन्द्र कुमार नायक सहित जिला प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी गण उपस्थित थे। स्वागत के बाद रथ यात्रा जिले से 51 किलोमीटर का रास्ते में पड़ने वाले विभिन्न गाँव से गुजरते हुए रायपुर जिले की सीमा में प्रवेश करेगी। रथ यात्रा के रास्ते में पड़ने वाले गाँव में गाँव वासियों ने पुष्प वर्षा कर रथयात्रा का स्वागत किया। रथ यात्रा के रास्तों में पड़नें वालें गाँव के वासियों ने अपने गाँव की मिट्टी रायपुर के चंदखुरी में बनने वाले रामवन के लिए पूरी श्रद्धा के साथ सौंपी। जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती ऊषा पटेल सहित जन प्रतिनिधियों ने भगवान श्री राम की पूजा अर्चना की। बाद में हरी झण्डी दिखाकर विराट बाईक रैली को प्रातः 1120 बजे जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति में रायपुर जिले को सौपनें के लिए रवाना किया गया। करीब 0145 बजे रथ यात्रा को रायपुर जिले को निसदा मोड़ पर सौंपा गया। महासमुंद जिले के सीमावर्ती ग्राम मुड़ियाडीह (औराई) पर पहुंची रथ यात्रा के आगमन पर और उनके स्वागत में ग्रामीण मण्डली द्वारा रामायण पाठकिया गया। महिलाओं ने श्री रथ में सवार श्री भगवान राम की पूजा-अर्चना की। इस राम रथ यात्रा का उद्देश्य छत्तीसगढ़ में पर्यटन को बढ़ावा देने के साथ-साथ छत्तीसगढ़ प्रदेश में भगवान श्री राम जिस-जिस क्षेत्रों से गुजरें उन पथों को चिन्हांकित कर राम वनगमन परिपथ पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाना भी है। यह काम टूरिज्म सर्किट विकास योजना के तहत् किया गया हैं। यह रथ यात्रा प्रदेश में 14 दिसम्बर से शुरू हुई और आज राजधानी रायपुर के नजदीक ग्राम चंदखुरी में समाप्त हो रही हैं। ग्राम चंदखुरी में रथ यात्रा की समाप्ति के अवसर पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल स्वयं उपस्थित रहेंगे। मालूम हो यह यात्रा राम वनगमन पर्यटन परिपथ पर्यटन रथयात्रा और विराट बाईक रैली छत्तीसगढ़ के उत्तर दिशा से कोरिया जिले के सीतामढ़ीहरचैका और दक्षिण दिशा में जिला सुकमा के रामाराम से बाईक रैली और पर्यटन रथयात्रा सोमवार 14 दिसम्बर को शुरू हुई है। महासमुंद जिले में समाप्ति के अंतिम उत्तर दिशा कोरिया जिले के सीतामढ़ी हरचैका से शुरू हुई बाईक रैली और पर्यटन यात्रा बलौदाबाजार जिला होते हुए लगभग 700 किलोमीटर का सफर कर महासमुंद जिले की सीमा मुड़ियाडीह (औराई) चैक पहुंची थी। जहां आमजन और प्रतिनिधि पुष्प वर्षा के साथ स्वागत किया। स्वागत के बाद राम वनगमन परिपथ पर्यटन रथयात्रा यहां से जिले के 23 गाॅव ग्राम पंचायत चुहरीअमलोईमरौदखमतराई और सिरपुर पहुंची। सिरपुर से फुसेराडीहअचानकपुर मोड़छपोराडीहजलकीबांसकुड़ा मोड़कुहरी मोड़कोडारमालीडीहकौआझर आदि से होकर तुमगाॅव मोड़अमावश मोड़कांपा मोड़बिरकोनी मंदिर परिसर रोडघोड़ारी मुढ़ैना रोड आदि से गुजरते हुए जिले की सीमा निसदा मोड़ पर जिला रायपुर को सौंपी गई। रथ यात्रा के आगे स्वयं सेवीएन.सी.सीबाईकर्स के अलावा वन और शिक्षा विभाग के कर्मचारी सवार थे। चिन्हांकित स्थानों पर रामपाठ किया गया व गाॅव की मिट्टी भी साथ में रखी गई। यह मिट्टी जिला रायपुर चंदखुरी में बन रहें राम वन में डाली जाएगी।

error: Content is protected !!