मंदिर निर्माण के नाम से मिली चंदा डकारने वाली भाजपा कांग्रेस को राम भक्ति ना सिखाये : कांग्रेस

०० रमन भाजपा ने 15 साल में माता कौशल्या एवं मर्यादा पुरूषोत्तम श्री रामचन्द्र जी के राम वनगमन पथ के विकास के लिए कुछ भी नही किया

०० भाजपा का राम नाम का जाप मात्र राम भक्तों से वोट और चंदा पाने तक सीमित

रायपुर। भाजपा नेताओ के राम वन गमन रथ यात्रा पर दिए गए बयान पर कांग्रेस ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार के 2 वर्ष के सफलतम कार्यकाल पूरा होने पर राम वन गमन पथ में रथ यात्रा निकल रही है तो भाजपा नेताओं के पेट में दर्द क्यों हो रहा है? 15 साल तक रमन शासनकाल में छत्तीसगढ़ की बिटिया और मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम जी की माता कौशल्या माता जी को रमन भाजपा ने कभी याद नहीं किया। भाजपा का राम नाम का जाप  राम भक्तों से मात्र वोट बटोरने और चंदा वसूलने तक ही सीमित है। मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम जी छत्तीसगढ़ के कण-कण में बसते है। छत्तीसगढ़ में सुबह की शुरुवात राम राम से होती है। किसान काठा से धान नापते समय गिनती करते है तब एक नही बल्कि राम बोलते है। यहाँ के नदी , पेड़ पौधे ,पर्वतों सभी प्राणियों में यहां के जनमानस के हृदय में बसते हैं। छत्तीसगढ़ में ही रामनामी परिवार भी है। 15 साल तक भाजपा ने राम नाम का उपयोग सिर्फ वोट बटोरने के लिए किया है राम वन गमन पथ को लेकर भाजपा के पास कोई ठोस नीति और नियत नहीं रही है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि राम मंदिर निर्माण के नाम से छत्तीसगढ़ सहित देश भर की राम भक्तों माता बहनों से चंदा वसूल कर डकारने वाले भाजपा के नेता कांग्रेस को राम भक्ति ना सिखाए। आजादी की लडाई से लेकर आज तक कांग्रेस के नेता मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम जी के बताए मार्ग में चलते हैं और आमजनता की सेवा करते हैं।नाथूराम गोडसे ने सावरकर के दिए पिस्तौल से राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के ऊपर गोली गोली चलाई।जब महात्मा गांधी को गोली लगी तब महात्मा गांधी के श्री मुख से हे राम शब्द निकला था। वनवास काल के दौरान मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम जी का अधिकतर समय छत्तीसगढ़ में ही बीता है शिवनीनारायण में नवधा भक्ति का उपदेश दिए थे कोरिया से लेकर सुकमा के रामाराम तक छत्तीसगढ़ के कण-कण में श्री राम जी बसते हैं। ठाकुर ने कहा कि भाजपा के नेता पहले बताएं मंदिर निर्माण के लिए मिले करोडों रुपया का चंदा, दान में मिले करोड़ो के सोना और चांदी के जेवरात ईंट सिक्का कहाँ है? आखिर दान में मिली चंदे की राशि , स्वर्ण रजत धातु को राम मंदिर निर्माण ट्रस्ट समिति को क्यों सौप नही रहे हैं? माननीय सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से अयोध्या में राममंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त हुआ है और माननीय न्यायालय के निर्देश पर राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाई गई। माननीय न्यायालय के फैसले के बाद राम मंदिर निर्माण होते देख एक बार फिर आरएसएस  और भाजपा से जुड़े लोग फिर राम भक्तों को ठगने मंदिर निर्माण के नाम से चंदा लेने निकले हैं। मंदिर निर्माण के नाम से मिले  चंदा को डकारने वाले भाजपा के नेता कांग्रेस को रामभक्ति ना सिखाये।

error: Content is protected !!