भाजपा महिला मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष विधानी ने कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत के बयान पर दी तीखी प्रतिक्रिया

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष श्रीमती पूजा विधानी ने कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत के बयान पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के मुख्यमंत्री से सीख लेने की बात करने वाली कांग्रेस प्रवक्ता को आत्म चिंतन और आत्म मंथन की आवश्यकता हैं। यदि छत्तीसगढ़ में कोरोना के लगातार बढ़ते प्रकोप पर ईमानदारी से कांग्रेस के साथी चिंतन करेंगे तो निश्चित ही आत्म ग्लानि और शर्म से पानी पानी हो उठेंगे। कांग्रेस कौन से सीख की बात कर रही हैं, 13 योद्धाओं जो कोरोना पर काबू का दावा कर होम कोरेन्टीन हो गए हैं, उनसे जनता को बेहाल छोड़ गायब होने की सीख लेनी हैं या मुख्यमंत्री निवास में जलसा कर कोरोना को झुप झुप के आमंत्रित करने की सीख या फिर प्रदेश सरकार के एक मंत्री के जन्म दिन पर हजारों की भीड़ एकत्रित कर कैसे जन्म दिन पर कोरोना संकट का केक काटा जाता हैं इस बात की सीख या कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी को बुला कर निगम मंडलों की नियुक्ति का प्रलोभन देकर प्रदेशभर से हजारों कार्यकर्ताओं को एकत्रित कर कोरोना संकट के खतरे को बढ़ाने के प्रयास की सीख। कांग्रेस को स्पष्ट करना चाहिए कि ऐसी कौन सी सीख हैं जो इस प्रदेश की कांग्रेस सरकार ने कोरोना नियंत्रण के लिए की हैं।

भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष पूजा विधानी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के जन्म दिवस को भाजपा प्रतिवर्ष सेवा के रूप में मनाती आ रही हैं। कांग्रेस हमेशा से मेवा की पक्षधर रही हैं इसलिए  प्रधानमंत्री जी के जन्म दिवस पर भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी के उद्देश्य के अनुरूप जन सेवा और अंतिम पंक्ति के अंतिम व्यक्ति तक सेवा भाव से पहुंचना, जनमानस की सेवा कांग्रेस को हजम नहीं हो रही हैं। यह कांग्रेस के कार्यकर्ता का दोष नहीं हैं,यह तो कांग्रेस के डीएनए की गड़बड़ी हैं जिन्हें सेवा नहीं मेवा भाता हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के चलते भाजपा कार्यकर्ता सरकार के नियमों को ध्यान में रखते हुए यदि वृक्षारोपण कर रहे हैं, रक्त दान कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का सेवा का संदेश पहुंचा रहे हैं, अस्पतालों में मरीजों तक भोजन व फल वितरण कर रहे हैं, प्रदेशभर में स्वच्छता अभियान चलाकर स्वच्छ भारत स्वच्छ छत्तीसगढ़ का संदेश दे रहे हैं तो मेवा प्रेमी कांग्रेस को क्यों पीड़ा हो रही हैं? विधानी ने कहा कि कोरोना संकट को लेकर आज प्रदेश में भय और चिंता का वातावरण निर्मित करने का काम प्रदेश सरकार की असंवेदनशीलता व लापरवाहीपूर्ण रवैया का नतीजा हैं इस पर कांग्रेस नेता मौन हैं। कोरेन्टीन सेंटर में आत्महत्या, जहरीले जीवों के काटने से मौत से लेकर बेलगामहोते कोरोना संकट और मौत के लगातार बढ़ते आंकड़ों के बीच प्रदेश सरकार और कांग्रेस के नेता प्रधानमंत्री जी के जन्मदिन को सेवा के रूप में मना रही भाजपा पर सवाल खड़ा करने से पहले यदि अपने गिरेबान में झांक लेते और जरा भी संवेदनशीलता दिखाते तो आज प्रदेश में कोरोना विस्फोटक स्तिथि में न होता और न ही जानलेवा होता। उन्होंने कांग्रेस को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा सरकार से सीख लेने की नसीहत दी हैं और कांग्रेस प्रवक्ता वंदना राजपूत को प्रदेश की स्थिति पर चिंतन कर मुख्यमंत्री और उनके 13 योद्धाओं से सवाल करने कहा हैं।

error: Content is protected !!