उर्दू शिक्षको के 473 स्वीकृत पदों पर भी नियुक्ति आदेश हो जारी : रिजवी

00 साढ़े 14 हजार शिक्षक नियुक्ति का आदेश सराहनीय: जकांछ
रायपुर। वरिष्ठ अधिवक्ता इकबाल अहमद रिजवी ने कहा कि मुख्यमंत्री शैक्षणिक जगत में क्रांतिकारी कदम उठाते हुए,14580 शिक्षकों की नियुक्ति आदेश जारी कर दिया है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल कस वह एक सराहनीय सामयिक और अपेक्षित कदम है। जकांछ इस निर्णय का स्वागत करता है। यह अपेक्षा करता है कि नियुक्ति में केवल स्थानीय बेरोजगारों को ही अवसर दिया जाए। यह सभी प्रदेशवासियों की भी दिली तमन्ना है। उम्मीदवार के लिए छत्तीसगढ़ के बोर्ड परीक्षा से मेट्रिक पास करना अनिवार्य होना चाहिए और स्थानीय बेरोजगारों को ही नियुक्ति में प्राथमिकता दिया जाना चाहिए।
श्री रिजवी ने मुख्यमंत्री को स्मरण दिलाते हुए प्रथम मुख्यमंत्री स्व. अजीत जोगी के कार्यकाल में सृजित 473 उर्दू शिक्षकों का चयन इस नियुक्ति में शामिल किया जाना चाहिए। क्योंकि 2003 में आचार संहिता लागू हो जाने के कारण उर्दू शिक्षकों की चयनित सूची जारी नहीं हो सकी थी। पंद्रह वर्षों की भाजपा सरकार में कई बार स्मरण दिलाने के बावजूद जारी नहीं की गई थी। उन्ही 473 उर्दू शिक्षकों के सर्वे उपरान्त स्वीकृत पदों पर भाजपा ने जानबूझकर नियुक्ति आदेश नहीं निकाले जो भाजपा की मुस्लिमों और उर्दू के प्रति एलर्जी को दर्शाता है। भाजपा शासनकाल में मुस्लिमों को चपरासी के पद के लायक भी नहीं समझा जाता था। मुख्यमंत्री से अपेक्षा है कि भाजपा शासन में उपेक्षित मुस्लिम बेरोजगारों को उम्मीद है कि उनकी फरियाद पर मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री अवश्य ध्यान देंगे।

error: Content is protected !!