आज है विश्व ओज़ोन दिवस

जानें कब और कैसे हुई थी इसे मनाने की शुरुआत और क्या है इस बार का थीम

अनूपपुर। संधान ट्रस्ट के सीईओ डॉ राकेश रंजन ने विश्व ओज़ोन दिवस के मौके पर बताया कि इस ओजोन दिवस की थीम ‘जीवन के लिए ओजोन’ हमें न सिर्फ यह याद दिलाती है कि पृथ्वी पर जीवन के लिए ओजोन महत्वपूर्ण है बल्कि यह भी याद रखने की ओर संकेत करती है कि हमें अपनी भावी पीढ़ियों के लिए ओजोन परत की रक्षा करना जारी रखना होगा।

ओजोन डे की थीम

धरती पर ओजोन परत के महत्व और पर्यावरण पर पड़ने वाले उसके असर के बारे में जानकारी के लिए प्रति वर्ष 16 सितंबर को ‘विश्व ओजोन दिवस’ मनाया जाता है इस साल आयोजित होने जा रहे विश्व ओजोन दिवस की थीम ‘जीवन के लिए ओजोनः ओजोन परत संरक्षण के 35 साल’ क्योंकि इस साल हम वैश्विक ओजोन परत संरक्षण के 35 साल मना रहे हैं।

ओजोन डे की शुरूआत

विश्व ओजोन दिवस पहली बार साल 1995 में मनाया गया था यह दिवस धरती पर पर्यावरण के प्रति जागरूरता व ओजोन परत की अहमियत के कारण मनाया जाता है सूर्य का प्रकाश जीवन बनाती है लेकिन ओजोन परत जीवन बनाती है जैसा कि हम जानते हैं कि यह संभव है जब 1970 के दशक के अंत में काम करने वाले वैज्ञानिकों को पता चला कि मानवता इस सुरक्षात्मक ढाल में एक छेद बना रही है तो उन्होंने आवाज उठाई इस पर वैश्विक प्रतिक्रिया निर्णायक थी 1985 में दुनिया की सरकारों ने ओजोन परत के संरक्षण के लिए वियना कन्वेंशन को अपनाया कन्वेंशन के मॉन्ट्रियल प्रोटोकॉल के तरह सरकारों, वैज्ञानिकों और उद्योग ने सभी ओजोन-क्षयकारी पदार्थों को 99 प्रतिशत हिस्से को काटने के लिए मिलकर काम किया 16 सितंबर को आयोजित विश्व ओजोन दिवस इस उपलब्धि का जश्न मनाता है यह दर्शाता है कि एक साथ लिए गए फैसले और कार्यवाही विज्ञान द्वारा निर्देशित प्रमुख वैश्विक संकटों को हल करने का एकमात्र तरीका है।

ओजोन डे का महत्व

ओजोन परत गैस की ऐसी परत है जो पराबैंगनी किरणों से हमें बचाती है यह परत हमारे लिए एक फिल्टर का काम करती है जो मनुष्य और धरती पर मौजूद अन्य जीवों को पराबैंगनी किरणों के हानिकारक प्रभाव से बचाती है इसलिए इसका संरक्षण करना बेहद जरूरी है।

error: Content is protected !!