आरएसएस से सवाल करो जवाब भाजपा देती है ये रिश्ता क्या कहलाता है? : विकास तिवारी

०० आरएसएस कहती है वो राजनीतिक पार्टी नही तो जवाब भाजपा से क्यो दिलवाती है?

०० मोहन मरकाम के सवालों का जवाब मोहन भागवत के प्रवक्ता क्यो नही देते भाजपा क्यो दे रही है?

०० तो क्या आरएसएस ही भाजपा के सभी गतिविधियों में संलिप्त है जैसे नान-घोटाला,कृषि-घोटाला,ई-टेंडर घोटाला?

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता विकास तिवारी ने भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी के बयान पर सवाल दागते हुये कहा कि छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से सवाल करते हुए कहा था कि कोरोना महामारी के समय जब लाखों मजदूर रोड में बेहाल चल रहे हैं,उनकी रोजी-रोटी छीन गयी है और हिंदूवादी राजनीति करने वाली आरएसएस इस कठिन समय मे कहां है, इसका जवाब आरएसएस  से अपेक्षित था लेकिन अपना नंबर बढ़ाने और प्रदेश अध्यक्ष पद बचाने की जुगत में भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष विक्रम उसेंडी ने मोहन मरकाम के सवालों का जवाब देना मुनासिब समझा। प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ हर बार यह कहता है कि उसका कोई राजनीति से लेना देना नहीं है और ना भारतीय जनता पार्टी के कामों में वह दखलअंदाजी करती हैं, ना ही भारतीय जनता पार्टी को कोई आदेश देती है लेकिन जब सवाल सीधे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से था तो जवाब भारतीय जनता पार्टी के द्वारा दिया जाना इससे स्पष्ट हो जाता है कि आरएसएस और भाजपा सिक्के के दो पहलू हैं और आरएसएस भाजपा को चुनाव जिताने में मदद करती है और बदले में अपने ऊपर लगे आरोपों का जवाब भाजपा से ही दिलवाती है।

प्रवक्ता विकास तिवारी ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से पूछा है कि क्या भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी के बयान को आरएसएस का अधिकारिक बयान माना जाए और अगर वह आरएसएस का आधिकारिक बयान नहीं है तो इस पर आरएसएस आपत्ति क्यों नहीं ले रही है और अगर विक्रम उसेंडी का बयान आरएसएस का अधिकृत बयान है तो यह बात स्पष्ट है कि पिछले 15 सालों में जो कारगुजारी भाजपा राज में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और उनके मंत्री गणों ने की है उसके पीछे सीधा-सीधा आदेश और नियंत्रण राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का रहा होगा, चाहे वह 36 हजार करोड़ का नान घोटाला हो,  चाहे वह साढे़ चार हजार करोड़ का ई टेंडरिंग घोटाला हो, रोड निर्माण घोटाला हो या कृषि विभाग में भ्रष्टाचार हो लगातार भाजपा के 15 साल के शासन में गोवंश की भूख में निर्मम हत्या की गई जिसमें कि गौ सेवा आयोग के अध्यक्ष से लेकर गौशाला के संचालक आरएसएस के नेता और स्वयंसेवक थे। प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम के बयान से तिलमिला  आरएसएस के लिए लाजमी था और कोरोना महामारी के समय बेरोजगार,मजलूम मजदूर जिनकी संख्या  लाखों में है जो लगातार हजारो किलोमीटर पैदल ही अपने घर की ओर निकल गए हैं जिनमें से अधिकतर हिंदू समाज से हैं और हिंदू समाज और हिंदुत्व की राजनीति करने वाली राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ मोदी सरकार के मजदूर विरोधी नीतियों का दबे स्वर में समर्थन कर रही है और केवल चुनाव के समय भाजपा को जिताने के लिए हिंदू और हिंदुत्व की बात करती है|  प्रवक्ता विकास तिवारी ने कहा कि प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम के सवालों का  जवाब आरएसएस को देना चाहिये ना की भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष अथवा प्रवक्ता को और अगर भाजपा का जवाब आरएसएस का अधिकृत जवाब है तो आरएसएस के प्रवक्ताओं को भाजपा के पिछले 15 साल के घोटालों पर भी जवाब जनता के समक्ष देना चाहिये।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!