भाजपा नेताओं की झूठ बोलने की 15 साल पुरानी आदत है छूटेगी कैसे : कांग्रेस

०० डॉक्टर रमन सिंह सरकार में थे तब अब विपक्ष में है तब भी मजदूर किसान महिला व्यापारियों को गुमराह करने झूठ बोल रहे हैं, आज भी यही कर रहे हैं

०० 36 हजार करोड़ के नान घोटाला,नमक घोटाला,चना घोटाला, चरणपादुका घोटाला के जिम्मेदार रहे लोग अब मजदूरों के नाम से झूठ की राजनीति कर रहे-कांग्रेस

०० डॉ रमन सिंह छत्तीसगढ़ के 15 वर्ष तक मुख्यमंत्री होने का फर्ज और माटी का कर्ज अदा करें मोदी सरकार के द्वारा छत्तीसगढ़ के साथ करोना सहित हर मामले में  भेदभाव का विरोध कर

रायपुर। भाजपा नेताओं  के करोना मामले में बयानों पर कांग्रेस ने प्रतिक्रिया दी है। प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि डॉ रमन सिंह 15 साल तक मुख्यमंत्री रहे तब विकास का दावा कर झूठ बोलते थे अब विपक्ष में है तब खुशहाल छत्तीसगढ़ के किसान मजदूर महिलाएं व्यापारियों को गुमराह करने झूठ बोल रहे हैं। भाजपा नेताओं के झूठ फरेब और वादाखिलाफी से छत्तीसगढ़ का जन-जन वाकिफ हो चुका है भाजपा नेताओं के बयान बाजी को अब  छत्तीसगढ़ की जनता ने गंभीरता से लेना बंद कर दिया है।  प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा की 22 लाख फर्जी राशन कार्ड बनाकर मजदूरों के अनाज में हेरा फेरी करने वाले 36हजार करोड़ के नान घोटाला, चना घोटाला नमक घोटाला चरण पादुका घोटाला  मोबाइल घोटाला के लिए जिम्मेदार रहे भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह छत्तीसगढ़ के संवेदनशील मुख्यमंत्री भूपेश बघेल  सरकार  पर  बेबुनियाद तथ्यहीन मनगढ़ंत आरोप लगाकर कोरोना महामारी संकट के दौरान परेशान मजदूरों की मदद करने के बजाय राजनीति कर रहे है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि डॉक्टर रमन सिंह को छत्तीसगढ़ के पूर्व में मुख्यमंत्री होने के दायित्व का निर्वहन करना चाहिए। मोदी सरकार के द्वारा छत्तीसगढ़ के साथ किए का रहे भेदभाव का विरोध करना चाहिए। मोदी सरकार से  छत्तीसगढ़ की हक की बात करनी चाहिए।डॉ रमन सिंह को मोदी सरकार से पूछना चाहिए छत्तीसगढ़ के कोयला की रॉयल्टी की राशि को छत्तीसगढ़ को क्यों नहीं दे रहे है-?  छत्तीसगढ़ के हिस्से की जीएसटी की बकाया राशि बीते 4 महीने से क्यों नहीं दिया गया ? डॉ रमन सिंह को मोदी सरकार से यह भी पूछना चाहिए भारत में 2800 से अधिक यात्री ट्रेनें हैं फिर देशभर के मजदूर घर जाने रेलवे की पटरी पर पैदल क्यों चल रहे हैं? भारत सरकार के गोदामों में इतना अनाज भरा है कि देश की आबादी को आने वाले दो चार साल तक दो वक्त का भोजन दिया जा सकता हैं ऐसे में लॉक डाउन के दौरान देशभर के मजदूर भूखे प्यासे सड़कों पर क्यों भटक रहे हैं? डॉ रमन सिंह को मोदी  से पूछना चाहिए 2022 तक किसानों के आमदनी दोगुनी करने का वादा कर भाजपा सत्ता में आई तो अब कोरोना महामारी संकट से निपटने किसानों को ऋण लेने की सलाह क्यों दी जा रही है ?सूक्ष्म लघु मध्यम उद्योग बीते 6 साल से नोटबंदी और जीएसटी के दुष्प्रभाव के कारण खस्ताहाल में है कोरोना महामारी संकट ने अधमरा हो चुके व्यापार उद्योग पर कुठाराघात किया है ऐसे समय में इन उद्योगों को संकट से लड़ने के लिये ऋण के बजाय सीधी मदद  राशि क्यों नहीं दी जा रही है? ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने कोरोना महामारी संकट काल के दौरान प्रदेश ही नहीं बल्कि प्रदेश के बाहर फंसे छत्तीसगढ़ के मजदूरों के रहने खाने और घर वापस आने का प्रबंध किया है? छत्तीसगढ़ में फंसे दूसरे राज्यों के मजदूरों को भी मेहमान की तरह रखकर उनके खाने-पीने रहने का प्रबंध किया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!