जेल परिसर में प्रहरी ने लगाई फांसी, दो मई को होनी थी शादी

०० जेल प्रहरी मूल रूप से बिलासपुर जेल में पदस्थ था, कैदी का ईलाज कराने आया था रायपुर

रायपुर। सेंट्रल जेल के ट्रेनिंग सेंटर में गुस्र्वार को एक जेल प्रहरी ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। खुदकुशी करने वाला जेल प्रहरी मूल रूप से बिलासपुर जेल में पदस्थ था और यहां एक कैदी को इलाज के लिए लेकर आया था। इस दौरान वह जेल के ट्रेनिंग सेंटर में स्र्का हुआ था। मृत आरक्षक का नाम प्रताप निर्मलकर (29) बताया गया है जो मूल रूप से कबीरधाम जिले के ग्राम जिंदा का रहने वाला था।

इस घटना के संबंध में मिली जानकारी के मुताबिक कबीरधाम जिले के पिपरिया थाना अंतर्गत ग्राम जिंदा निवासी प्रताप निर्मलकर तीन साल पहले जेल प्रहरी के रूप में भर्ती हुआ था। इसके बाद से वह बिलासपुर सेंट्रल जेल में पदस्थ था। लॉकडाउन के पहले से उसे ड्यूटी पर रायपुर सेंट्रल जेल में संलग्न किया गया था और वह यहीं परिसर में बने ट्रेनिंग सेंटर में स्र्का हुआ था। बताया जा रहा है कि जेल प्रहरी की कुछ दिनों पहले सगाई हुई थी और आगामी दो मई को उसकी शादी होनी थी। लॉकडाउन की वजह से फिलहाल उसकी शादी स्थगित कर दी गई थी। मृतक के भाई संतोष ने बताया कि वह काफी खुशमिजाज स्वभाव का था। दो दिन पहले ही उससे पूरे परिवार ने फोन पर बात की थी। इस वक्त ऐसा कुछ भी महसूस नहीं हुआ कि वह इतना बड़ा आत्मघाती कदम उठा सकता है। परिजनों ने इस मामले में संदेह जाहिर कर न्यायिक जांच की मांग की है। बहरहाल जेल प्रहरी ने किन परिस्थितियों में यह कदम उठाया, इस बात से अभी पर्दा नहीं उठा है। मृतक के मोबाईल फोन, कॉल डिटेल्स की जांच की जा रही है। उसके साथ रह रहे अन्य जेल प्रहरियों से भी पूछताछ की जा रही है। मृतक के शव को पंचनामे के बाद परिजनों को सौंप दिया गया है।

error: Content is protected !!