राजधानी में गुटखा, तंबाकू, बीड़ी, सिगरेट के साथ ही  गुड़ाखू पर भी प्रतिबंध, रायपुर कलेक्टर व प्रशासन को धन्यवाद :  प्रकाशपुन्ज पाण्डेय

रायपुर| छत्तीसगढ़ के समाजसेवी और राजनीतिक विश्लेषक प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने रायपुर में नशीले पदार्थों के साथ ही गुड़ाखू की भी बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए रायपुर कलेक्टर भारती दासन की प्रशंसा करते हुए कहा है कि यह एक बहुत ही बेहतरीन कदम है जिसे पूरे प्रदेश में कार्यान्वित करने की आवश्यकता है। रायपुर कलेक्टर ने एक ऐसा कदम उठाया है जिसे समूचे प्रदेश में सराहा जाएगा खासकर तब जब पूरा विश्व स्वस्थ रहने के लिए जूझ रहा है।

प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने कहा कि आज जब पूरा देश COVID-19 नामक वैश्विक महामारी से लड़ रहा है तो उस समय सरकार भी जनता से अपील कर रही है कि वो अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दे और अपनी इम्यूनिटी (रोग प्रतिरोधक क्षमता) को बढ़ाने का काम करे। डॉक्टरों की रिपोर्ट के मुताबिक नशा करने से इंसानी शरीर की इम्युनिटी कमजोर हो जाती है जिसके कारण कोई भी संक्रमण उसे आसानी से अपनी गिरफ्त में ले सकता है। इसीलिए मैं अपील करता हूं की जैसे रायपुर कलेक्टर ने पान मसाला, बीड़ी, सिगरेट, तंबाकू, गुटखा, गुड़ाखू आदि नशीले पदार्थों की बिक्री पर प्रतिबंध लगाया है, उसी प्रकार छत्तीसगढ़ के हर जिले में भी सभी कलेक्टर जनता के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए ऐसा सार्थक कदम उठाएं ताकि इस महामारी के बीच जनता कोरोना वायरस से लड़ने के लिए अपने आप को शारीरिक और आंतरिक रूप से मजबूत कर पाए। प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने कहा कि इस बाबत वे छत्तीसगढ़ के मुख्य सचिव आर पी मंडल से भी निवेदन करते हैं कि वे सभी कलेक्टरों को इस विषय में सुझाव दें और इसे कार्यान्वित करने के लिए निर्देश दें। यह कदम एक ऐतिहासिक कदम होगा वो भी ऐसे समय में जब हर व्यक्ति अपनी जीवन की रक्षा करने के लिए पिछले 1 महीने से घर में बंद है। जब 1 महीने से कोई नशा नहीं किया और 1 महीने से बिना नशा के जो व्यक्ति जीवित रह सकता है वह आगे भी जी लेगा जिससे उसका स्वास्थ्य बेहतर ही होगा यह सर्वज्ञात है। ज्ञात हो कि इसी कड़ी में रायपुर, छत्तीसगढ़ के समाजसेवी और राजनीतिक विश्लेषक प्रकाशपुन्ज पाण्डेय ने राज्य सरकार से गुड़ाखू को बंद करने की मांग की थी। आने वाली पीढ़ियों के लिए भी यह एक बहुत बड़ा हितकारी कदम साबित होगा।

 

error: Content is protected !!