अर्णव गोस्वामी के खिलाफ पूरे देश के साथ-साथ छत्तीसगढ़ में भी उमड़ा आक्रोश, 101 से अधिक स्थानों में अर्णव गोस्वामी के खिलाफ एफआईआर दर्ज

०० कांग्रेस ने की अर्णव गोस्वामी की गिरफ्तारी की मांगअर्णव गोस्वामी को गिरफ्तार कर जेल भेजा जाये

०० कोरोना के मोर्चे पर केंद्र की नाकामी को छिपाने के लिये अर्णव साम्प्रदायिकता भड़काने में लगे

रायपुर। अर्णव गोस्वामी की गिरफ्तारी की मांग को लेकर छत्तीसगढ़ में 101 थानों में प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज कराने की जानकारी देते हुए हुए छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है  कि सांप्रदायिकता और नफरत फैलाने की इस कोशिश के खिलाफ पूरे देश के साथ साथ छत्तीसगढ़ में भी गहरी नाराजगी है। कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष श्रीमती सोनिया गांधी पर रिपब्लिकन टीवी और आर भारत टीवी के संपादक अर्णब गोस्वामी की झूठी निराधार वैमनस्यतापूर्ण टिप्पणी को तो पत्रकारिता नहीं कहा जा सकता. अर्णब गोस्वामी नफरत का वही ज़हर उगल रहे हैं जो राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रशिक्षित कार्यकर्ता सोशल मीडिया पर लगातार उगल रहे हैं। अर्णब गोस्वामी को जिस तरह से संघ और भाजपा के लोग पसंद करते हैं उससे स्पष्ट है कि वे उनकी ही भाषा में बोलते हैं. अर्णव गोस्वामी को केंद्र की मोदी सरकार से मिला प्रश्रय  भी ज़ाहिर करता है कि अर्णब गोस्वामी ने श्रीमती सोनिया गांधी के ख़िलाफ़ जो कुछ कहा है वह उनके आकाओं की ही लिखी स्क्रिप्ट है।

कांग्रेस संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है  कि अर्णब गोस्वामी श्रीमती गांधी के ख़िलाफ़ अनर्गल प्रलाप करने के बाद जो कह रहे हैं वह देश की समरसता को चोट पहुंचाने वाला और खुले तौर पर सांप्रदायिक दंगा भड़काने वाला है. वे वही कह रहे हैं जो इस देश में सांप्रदायिक सोच वाले लोग कह रहे हैं. अर्णव गोस्वामी स्पष्ट रूप से  देश में  सांप्रदायिकता  भड़काने के  एजेंडे को  आगे बढ़ाने का काम कर रहे हैं ।अर्णव गोस्वामी के बयान से देश के बहुत से धर्म के मानने वालों और शांति प्रिय लोगों को ठेस भी पहुंची है। त्रिवेदी ने कहा है  कि इस समय जब पूरा देश कोरोना के ख़िलाफ़ संघर्ष कर रहा है तो अर्णब गोस्वामी लोगों का ध्यान करोना महामारी को फैलने से रोकने में केंद्र की विफलता से ध्यान भटकाने का प्रयास कर रहे हैं. करोना के मोर्चे पर केंद्र की नाकामी को छिपाने के लिये  साम्प्रदायिकता भड़काना उचित नहीं है।ऐसे समय में सांप्रदायिकता भड़का कर विपक्ष को निशाना बनाकर अर्णव पत्रकारिता के स्थापित मानदंडों को तहसनहस कर रहे हैं। कांग्रेस पार्टी मानती है कि अर्णब गोस्वामी का यह बयान और दंगा भड़काने की कोशिश एक संज्ञेय अपराध है और इसके लिए उनके ख़िलाफ़ तुरंत मुक़दमा क़ायम किया जाना चाहिए और उन्हें गिरफ़्तार किया जाना चाहिए। कांग्रेस पार्टी न्यूज़ ब्राडकास्टर्स एसोसिएशन और एडिटर्स गिल्ट से भी अनुरोध करती है कि वे इस मामले को संज्ञान में लें और अर्णब गोस्वामी और उनके न्यूज़ चैनल पर तत्काल कार्रवाई करें।

error: Content is protected !!