प्रदेश के कठघोरा मॉडल की ज़िम्मेदारी सीएम स्वयं लेंगे या राहुल गांधी को देंगे? : विक्रम उसेंडी

०० शराब के मुद्दे पर प्रदेश सरकार की बदनीयती भी जगजाहिर हुई : उसेण्डी

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेण्डी ने कोरबा जिले के कटघोरा में कोरोना वायरस संक्रमण के एकाएक बढ़े मामले के मद्देनजर हाईकोर्ट द्वारा तब्लीगी जमातियों का जिलावार डाटा एकत्रित करने के दिये गये आदेश का स्वागत किया ह। श्री उसेण्डी ने कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए कोरोना परीक्षण प्रयोगशाला तीन दिनों में शुरू करने और शराब दुकान व बार खोलने के सम्बन्ध में गठित समिति को रद्द करने के आदेश का भी अभिनंदन किया है।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री उसेण्डी ने कहा कि कोरोना संक्रमण के वैश्विक संकट के मुकाबले में छत्तीसगढ़ सरकार प्रायः सभी मोर्चों पर विफल सिद्ध हो रही है और ऐसी स्थिति में न्यायलय को दखल देकर सरकार को जरूरी कदम उठाने के लिए आदेश करना पड़ रहा है। इससे यह स्पष्ट हो रहा है कि प्रदेश सरकार छत्तीसगढ़ को कोरोना मुक्त करने की दिशा में इच्छाशक्ति के साथ काम नहीं कर रही है। उल्लेखनीय है कि उच्च न्यायलय ने इस सम्बन्ध में दायर एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए सोमवार को राज्य के डीजीपी और स्वास्थ्य सचिव को निजामुद्दीन मरकज में शामिल होने वाले तब्लीगी जमातियों के जिलावार डेटा का सर्च ऑपरेशन और फाइल एफिडेविट के साथ जारी रखने तथा इस सम्बन्ध में जानकारी एकत्रित करने का आदेश दिया है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री उसेण्डी ने कहा कि हाईकोर्ट द्वारा प्रदेश सरकार को निजामुद्दीन मरकज से छत्तीसगढ़ लौटे तब्लीगी जमात के लोगों की जिलेवार जानकारी जुटाने का आदेश देना इस बात का द्योतक है कि इस महामारी को लेकर प्रदेश सरकार पूरी तरह लापरवाह है। श्री उसेण्डी ने कटाक्ष करते हुए कहा कि कथित सफलता का श्रेय राहुल गांधी के निर्देश को देने वाले सीएम बघेल अब ‘कठघोरा मॉडल’ की ज़िम्मेदारी ख़ुद लेंगे या राहुल जी को ही देंगे? उसेंडी ने कहा कि कांग्रेस नेताओं को अपनी इस विफलता की नैतिक जिम्मेदारी लेनी चाहिए क्योंकि प्रदेश सरकार तब्लीगी जमातियों के प्रदेश में प्रवेश को रोकने और उनकी खोज कर आवश्यक कार्रवाई करने में बुरी तरह विफल रही है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष श्री उसेण्डी ने कहा कि कटघोरा के बाद रतनपुर में एक मस्जिद में छिपे 16 जमातियों की धर-पकड़ से यह आशंका पुष्ट होती है कि जमातियों ने छत्तीसगढ़ को अपना सुरक्षित ठिकाना माना था और प्रदेश सरकार इन जमातियों के प्रति आपराधिक रूप से उदासीन  रही। श्री उसेण्डी ने कहा कि जमातियों के छत्तीसगढ़ प्रवेश से लेकर हाल तक की उनकी गतिविधियों पर प्रदेश सरकार की अनदेखी से यह सवाल खड़ा हो रहा है कि आखिर इन जमातियों से कांग्रेस का रिश्ता क्या है? और, इन जमातियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई न करके प्रदेश सरकार क्या लॉकडाऊन समेत तमाम उपायों पर क्या पानी फेरने पर आमादा है? उसेंडी ने कहा कि आज भी प्रदेश सरकार की रुचि महामारी रोकथाम से ज़्यादा शराब बेचने में है। इस मामले में भी आदेश देकर कोर्ट ने स्वागतेय क़दम उठाया है। श्री उसेंडी ने सीएम बघेल को आत्ममुग्धि से मुक्त होकर आत्मचिंतन की सलाह दी है।

 

error: Content is protected !!