कोरोना वायरस : छत्तीसगढ़ में कोरोना के पांच नए मरीज सामने आए

रायपुर। छतीसगढ़ में एक साथ पांच कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने से स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है। बुधवार को दिन में स्वास्थ्य विभाग ने दो कोरोना पॉजिटिव केस की पुष्टि की। इसमें एक रायपुर की युवती लंदन से तो दूसरा राजनांदगांव का युवक थाइलैंड से यात्रा कर आया था। इन्हें एम्स के आइसोलेशन सेंटर में रखा गया है। इधर, देर रात छत्तीसगढ़ में तीन और नए कोरोना के पॉजिटिव मामले सामने आए हैं। इसकी पुष्टि एम्स रायपुर के डायरेक्टर डॉ नितिन नागरकर ने की है। उन्होंने बताया कि इसमें से रायपुर, बिलासपुर और भिलाई का एक-एक केस हैं। रायपुर और भिलाई के मरीज को एम्स लाया जा रहा है, जबकि बिलासपुर के पॉजिटिव मरीज का इलाज वहीं होगा। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक कुल 6 पॉजिटिव केस हो गए हैं।

रायपुर के छोटापारा (नेताजी सुभाष स्टेडियम के पीछे) की 26 वर्षीय युवती पॉजिटिव पाई गई है। वह इंग्लैंड से 17 मार्च को मुंबई होते हुए रायपुर पहुंची थी। उसे होम क्वारंटाइन में रखने की सलाह दी गई थी। मंगलवार को कोरोना के लक्षण दिखने पर उसका सैंपल लिया गया था। बुधवार सुबह जब रिपोर्ट में कोरोना पॉजिटिव आया, तो अधिकारियों ने अस्पताल में भर्ती करने का निर्देश दिया, पर परिवार के सदस्यों ने आपत्ति की। इसके बाद दोबारा जांच कराई गई। यह रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई। इसके बाद उसे एम्स में भर्ती कराया गया। राज्य नोडल अधिकारी डॉ अखिलेश त्रिपाठी ने बताया कि परिवार से जुड़े दस लोगों का सैंपल लिया गया है। लड़की का ड्राइवर बागबहरा गया है, जिसका सैंपल लेकर जांच करने का निर्देश दिया गया है। वहीं, राजनांदगांव कलेक्टर जेपी मौर्य ने बताया कि भरकापारा का एक युवक भी पॉजिटिव है। वह चार दोस्तों के साथ थाईलैंड घूमने गया था। वे 16 मार्च को लौटे थे। चारों का सैंपल लिया गया। ये होम आइसोलेशन में थे। दो युवकों की जांच निगेटिव पाई गई, लेकिन उन्हें होम आइसोलेशन में रखा गया था। मंगलवार को एक युवक का स्वास्थ्य बिगड़ने पर सूचना दी गई। इस पर उसके साथ ही एक अन्य युवक को रायपुर एम्स लाया गया। यहां जांच में बीमार युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई, उसे भर्ती कर लिया गया है। इससे पहले रायपुर के समता कालोनी की एक युवती पॉजिटिव पाई गई थी, जिसका इलाज एम्स में चल रहा है।

विदेश से आने वालों के आसपास के 50 घरों की जांच :- छत्तीसगढ़ में पिछले 14 दिन में विदेश से आने वाले व्यक्तियों के आसपास के परिवार की जांच की जा रही है। प्रारंभिक तौर पर परिवार के सदस्यों से पूछताछ की जा रही है। किसी में सर्दी, बुखार के लक्षण दिख रहे हैं, तो उसकी भी जांच की जा रही है। 60 साल से ज्यादा उम्र वालों, शुगर और बीपी मरीजों के ब्लड की जांच की जा रही है।

error: Content is protected !!