नक्सलियों ने पुलिस मुखबिरी का आरोप लगा की ग्रामीण की हत्या

०० दंतेवाड़ा जिले के अरनपुर थाना क्षेत्र में ग्रामीण को मौत के घाट उतारा

रायपुर/दंतेवाड़ा। सुकमा की घटना के बाद सोमवार की रात एक बार फिर नक्सलियों ने एक कायराना करतूत को अंजाम देते हुए दंतेवाड़ा जिले में एक ग्रामीण को मौत के घाट उतार दिया। नक्सलियों ने ग्रामीण पर पुलिस का मुखबीर होने के शक में उसकी हत्या कर दी। ग्रामीण की हत्या के बाद नक्सलियों ने अन्य ग्रामीणों को धमकी देते हुए यह भी कहा कि अगर मामले की जानकारी पुलिस को दी तो ठीक नहीं होगा। इसके बाद दहशत में आए ग्रामीणों ने पुलिस को इसकी सूचना दिए बगैर मृतक का अंतिम संस्कार कर दिया है। बाद में मामले की जानकारी पुलिस को मिली। जिले के पुलिस अधीक्षक डॉ अभिषेक पल्लव ने घटना की पुष्टी की है।

मिली जानकारी के अनुसार दंतेवाड़ा जिले के अरनपुर थाना क्षेत्र में सोमवार की रात हथियारबंद नक्सली गांव में घुसे और यहां से एक ग्रामीण को घर से बाहर निकाला कर उसे अगुआ कर लिया। नक्सली उसे अपने साथ कुछ दूर तक ले गए और फिर बेरहमी से उसकी हत्या कर लाश वहीं फेंक दी। इसके साथ ही जाते-जाते नक्सलियों ने ग्रामीण्ाों को धमकाया कि घटना की सूचना अगर पुलिस को दी गई तो गांव में और खून-खराबा मचाएंगे। इसके बाद ग्रामीण भय से चुपचाप रहे और मृतक का अंतिम संस्कार कर दिया। इस घटना के बाद पूरे गांव में दहशत का माहौल बना हुआ है। इससे पहले रविवार को सुकमा जिले के मिनपा के जंगल से भी नक्सलियों ने डीएफ और एसटीएफ के जवानों को एंबूश में फंसाकर उनपर हमला किया था। इस हमले में 17 जवान शहीद हो गए थे। घटना में करीब 15 जवान गंभीर रूप से घायल हुए हैं, जिनका उपचार अभी रायपुर में चल रहा है।

error: Content is protected !!