कोरोनावायरस: विधानसभा की कार्यवाही 25 मार्च तक स्थगित, विपक्ष ने बताया इतिहास का काला दिन

रायपुर| कोरोनावायरस के कारण प्रदेश में पहले ही स्कूल-कालेज बंद कर दिए गए हैं। लोगों को जागरूक करने के लिए भी सरकार प्रयास कर रही है। शहर के मल्टीप्लेक्स वगैरगह में भी सन्नाटा पसरा हुआ है। लोगों को भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचने को कहा जा रहा है। कोरोना वायरस के संभावित संक्रमण को ध्यान में रखते हुए स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव आज सदन का स्थगन का प्रस्ताव लेकर आए थे। जिसके बाद विपक्ष इसका विरोध करने लगा। दोपहर 12 बजे जब सदन दुबारा शुरू हुआ तो विधानसभा अध्यक्ष डाॅ. चरण दास महंत ने 25 मार्च तक विधानसभा स्थगित करने की घोषणा कर दी।

विधानसभा स्थगित करने की घोषणा के बाद पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह और नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक समेत जोगी कांग्रेस के नेता धर्मजीत सिंह धरना पर बैठ गए। विधानसभा अध्यक्ष चरण दास महंत की संसदीय प्रणाली से विपक्षी नेता नाराज हैं। भाजपा विधायक अजय चंद्राकर ने कहा कि सदन में गलत परंपरा की शुरुआत हो रही है। शिवरतन शर्मा ने कहा कि संसदीय कार्य मंत्री रहते हुए सारी परंपराओं को तोड़ा जा रहा है। विपक्ष ने सत्तापक्ष के प्रस्ताव पर प्रश्नकाल स्थगित किए जाने को संसदीय इतिहास का काला दिन बताया।

error: Content is protected !!