राजधानी में पीलिया पर निगम प्रशासन की उदासीनता दुर्भाग्यपूर्ण :  भाजयुमो

०० ड्यूटी में शराबखोरी करने वालों पर हो दण्डात्मक कार्रवाई :  उमेश 

रायपुर। भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला मीडिया प्रभारी उमेश घोरमोड़े ने राजधानी में गंदे पानी की आपूर्ति को लेकर नगर निगम प्रशासन की उदासीनता पर जमकर हमला बोला है। श्री घोरमोड़े ने कहा कि एक तरफ शहर गंदे पानी के कारण पीलिया व दीगर बीमारियों का शिकार हो रहा है और दूसरी तरफ साफ पेयजल उपलब्ध कराने के लिए जिम्मेदार अधिकारी व कर्मचारी खारून इंटेकवेल में खुलेआम ड्यूटी के दौरान शराबखोरी कर रहे हैं।
भाजयुमो जिला मीडिया प्रभारी श्री घोरमोड़े ने शनिवार को वायरल हुए न्यूज वीडियो का जिक्र करते हुए कहा कि फिल्टर प्लांट में इस तरह खुलेआम शराबखोरी एक गंभीर मामला है। राजधानी में एकाएक पीलिया व दीगर बीमारियों का प्रकोप बढ़ने की वजह क्या नगर निगम प्रशासन की लापरवाही नहीं है? एक तरफ तो निगम के अधिकारी लीकेज सुधारने, टंकी सफाई कराने का दावा करते है वहीं उनके अधीनस्थ ड्यूटी के दौरान शराबखोरी कर नगर निगम प्रशासन की शहर की जनता के प्रति जिम्मेदारियों की सारी पोल खोल देते हैं। श्री घोरमोड़े ने कहा कि एक तरफ पीलिया का प्रकोप है तो दूसरी तरफ कोरोना वायरस संक्रमण का खौफ लोगों को परेशान कर रहा है। ऐसी स्थिति में अपने अधिकारी-कर्मचारियों के इस गैर जिम्मेदाराना आचरण व खुलेआम शराबखोरी पर निगम प्रशासन की उदासीनता निश्चित रूप से दुर्भाग्यपूर्ण है। इससे पहले श्रीमती किरणमयी नायक व प्रमोद दुबे के महापौर रहते राजधानी गंदे पानी के सेवन व उपयोग के दुष्परिणाम झेल चुकी है और अब महापौर एजाज ढेबर के कार्यकाल में भी यह दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति निर्मित हुई है। श्री घोरमोड़े ने इस गैर जिम्मेदाराना आचरण के लिए संबंधित उच्चाधिकारियों समेत सभी जिम्मेदार लोगों पर दण्डात्मक कार्रवाई की मांग की है।

 

error: Content is protected !!