निरंतर प्रयास करते रहें, यदि कोई कठिनाईयां आती है तो उसका सकारात्मक दृष्टिकोण से सामना करें: सुश्री उइके

०० राज्यपाल कृति गु्रप ऑफ इंस्टीट्यूट्स रायपुर के वार्षिक उत्सव समारोह में हुई शामिल

रायपुर| आप चाहे जिस भी क्षेत्र में कार्य करें, मन लगाकर कार्य करें और उसमें उत्कृष्टता लाएं। आप निरंतर प्रयास करते रहें, यदि कोई कठिनाईयां आती है तो उसका सकारात्मक दृष्टिकोण से सामना करें। यह बात राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके ने कही। राज्यपाल आज शाम कृति गु्रप ऑफ इंस्टीट्यूट्स के वार्षिक उत्सव समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में छात्र-छात्राओं को संबोधित कर रही थी। उन्होंने इस अवसर पर विभिन्न क्षेत्रों में उपलब्धि हासिल करने वाले विद्यार्थियों को सम्मानित भी किया।
राज्यपाल ने कहा कि युवाओं के लिए यह समय बहुत महत्वपूर्ण होता है। उनमें अथाह ऊर्जा है, लेकिन कभी-कभी इस ऊर्जा का वे ऐसे कामों में लगा देते हैं जिसका कोई सकारात्मक परिणाम नहीं होता बल्कि वह दिशा विहीन भी होता है। उन्होंने कहा कि अध्ययन के साथ-साथ अन्य गतिविधियों जैसे खेलकूद, सांस्कृतिक कार्यक्रम में हिस्सा लें और सप्ताह में कम से कम एक दिन समाज के लिए निकालंे। किसी ऐसी मोहल्ले में जाएं और उन परिवारों के मध्य जाएं जो गरीब हांे या निचले तबके के हांे। वहां जाकर उन्हें स्वच्छता का संदेश दंे, उन्हें नशा तथा अन्य सामाजिक बुराईयों से दूर रहने का आग्रह करें।
सुश्री उइके ने कहा कि हम राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती मना रहे हैं। उन्होंनेे हमें सत्याग्रह और अहिंसा का रास्ता दिखाया। आवश्यकता है कि युवा वर्ग उनके विचारों का अनुकरण करंे। उनके चिंतन के अनुरूप अपनी ऊर्जा रचनात्मक कार्यो में लगाएं और आत्म नियंत्रित रहें। पूर्व मंत्री एवं विधायक श्री बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि जब हम कॉलेज में अध्ययन करते थे तो डिग्री हासिल करने के लिए पढ़ते थे। आज के विद्यार्थी उच्च शिक्षा में कैरियर बनाने के लिए पढ़ाई कर रहे है। आज प्रतियोगी परीक्षा में वही सफल होगा जिसमें योग्यता होगी, जो पढ़ाई के साथ-साथ अन्य गतिविधियों में हिस्सा लेता है। उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थान ऐसा होना चाहिए जो राष्ट्रभक्ति का केंद्र बने और विद्यार्थियों में देशभक्ति की भावना जागृत करें। इस अवसर पर छात्र-छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम में प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में संस्था के निदेशक अभिषेक अग्रवाल, अकादमी निदेशक डॉ. बी.सी. जैन सहित विद्यार्थी और उनके परिजन उपस्थित थे।

error: Content is protected !!