नेता प्रतिपक्ष कौशिक का सवाल : क्या सीएम कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व को भी फिसड्डी समझते है?

रायपुर। प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने केंद्र सरकार के बजट से नाउम्मीदी जताने वाले प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल पर निशाना साधा और कहा कि जिनके पास न तो आर्थिक प्रबंधन का कोई विजन है और न ही विकास का रोड मैप, उन्हें कहीं भी उम्मीद नजर नहीं आएगी। नकारात्मक राजनीति के प्रतीक बनते जा रहे मुख्यमंत्री बघेल पहले अपने छत्तीसगढ़ के बजट से तो उम्मीदें जगा दें। श्री कौशिक ने कहा कि केंद्र सरकार के बजट की फिक्र मुख्यमंत्री बघेल न करें क्योंकि पिछले 5 वर्षों में देश की अर्थव्यवस्था को 2 से 3 ट्रिलियन डॉलर तक लाने का पराक्रम केंद्र की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने कर दिखाया है और सन् 2024 तक केंद्र सरकार देश की अर्थव्यवस्था को 5 ट्रिलियन डॉलर तक ले जाने के लिए प्रतिबद्ध है।
नेता प्रतिपक्ष श्री कौशिक ने कहा कि देश में आर्थिक मंदी की बातें करके देश और प्रदेश को गुमराह करना ही कांग्रेस का काम रहा गया है। केंद्र के विषयों में अकारण ज्ञान बांटने के बजाय मुख्यमंत्री बघेल को पहले अपने राज्य की फिक्र करनी चाहिए जहां उनके छलावों, वादाखिलाफी, झूठ और नौटंकियों ने नित-नए अध्याय रचे हैं। आज न तो प्रदेश सरकार के पास विकास का कोई रोडमैप है और न ही लोगों की सर्वांगीण कल्याण का कोई सुविचारित कार्यक्रम। प्रदेश को भ्रष्टाचार, अपराध और छलावों के तिराहे पर खड़ा कर गैरजरूरी मुद्दों पर जुबानी जमा-खर्च करने में मशगूल मुख्यमंत्री बघेल का दिशाहीन नेतृत्व प्रदेश का कितना भला कर पाएगा, यह सवाल आज पूरे प्रदेश की चिंता का विषय है। श्री कौशिक ने कहा कि प्रदेश के विषयों को लेकर सीएम का लगातार चुप रहना और अनावश्यक रूप से केन्द्र पर बयानबाजी करना यह दिखाता है कि सीएम को अपने नेता सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर भरोसा नही। बघेल शायद यह मानते हैं कि उनके राष्ट्रीय नेताओं को मुद्दों की समझ नही इसलिए प्रदेश के कार्यों को छोड़ सीएम को लगातार राष्ट्री मुद्दों पर हल्ला मचाना होता है। नेता प्रतिपक्ष श्री कौशिक ने कहा कि मुख्यमंत्री बघेल को केंद्र सरकार के बजट से ज्यादा उम्मीदें नहीं हैं लेकिन छत्तीसगढ़ के लोगों को तो भूपेश सरकार के बजट से बिल्कुल ही उम्मीद नहीं है। अपने 14 माह के कार्यकाल में भूपेश बघेल ने प्रदेश के पूरे अर्थ तंत्र का सत्यानाश करके छत्तीसगढ़ को कंगाली के कगार पर ला खड़ा करने का काम किया है। छत्तीसगढ़ को 14 हजार करोड़ रुपए के कर्ज के दलदल में धंसा दिया है। मुख्यमंत्री बघेल जैसा काम करने की राजनीतिक प्रवृत्ति के परिचायक बने हैं, वैसा ही वे केंद्र सरकार के बारे में सोचने की भूल कदापि न करें। श्री कौशिक ने कहा कि भाजपा की पूर्ववर्ती राज्य सरकार रही हो या मौजूदा केंद्र सरकार, आर्थिक प्रबंधन और देश के कल्याण की दिशा में सुनियोजित व सुविचारित काम करने में उनकी कोई मिसाल नहीं है। पूर्ववर्ती प्रदेश भाजपा सरकार ने बेहतर प्रबंधन व संतुलन के साथ छत्तीसगढ़ के हर वर्ग के कल्याण और प्रदेश के समुचित विकास की आर्थिक अवधारणा पर काम किया। मौजूदा केंद्र सरकार ने देश के खोखले कर दिए गए अर्थतंत्र को पटरी पर लाने के पराक्रम का परिचय दिया है। 

error: Content is protected !!