आदिवासी समाज की समस्याओं के निराकरण का हरसंभव प्रयास किया जाएगा : सुश्री उइके

०० सर्व आदिवासी समाज के प्रतिनिधिमण्डल ने राज्यपाल से की सौजन्य मुलाकात

रायपुर| छत्तीसगढ़ की नई राज्यपाल सुश्री अनुसुईया उइके से आज यहां राजभवन में सर्व आदिवासी समाज के प्रतिनिधिमण्डल ने पूर्व सांसद श्री सोहन पोटाई के नेतृत्व में सौजन्य मुलाकात की। उन्होंने सुश्री उइके को छत्तीसगढ़ के राज्यपाल का पद ग्रहण करने पर हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं दी।

????????????????????????????????????

राज्यपाल सुश्री उइके ने सर्व आदिवासी समाज की ओर से पूरी आत्मीयता के साथ उनका स्वागत करने के प्रति धन्यवाद देते हुए कहा कि आदिवासी समाज की भावनाओं और अपेक्षाओं को पूरी करने के लिए यथा संभव प्रयास करेंगी। उन्होंने कहा कि नक्सली समस्या का समाधान कैसे हो, इसके लिए एक कार्यशाला आयोजित की जाए, जिसमें अधिकारियों के साथ ही आदिवासी समाज के प्रमुखों को भी आमंत्रित किया जाना चाहिए। राज्यपाल ने कहा कि आदिवासी क्षेत्रों के विकास के लिए आदिवासी सलाहकार परिषद की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। उन्होंने कहा कि सभी के सहयोग से छत्तीसगढ़ के विकास के लिए आवश्यक प्रयास करेंगी। इस अवसर पर पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्री अरविंद नेताम ने आदिवासी बहुल छत्तीसगढ़ राज्य के लिए राज्य गठन के बाद पहली बार आदिवासी समाज से राज्यपाल के पद पर महिला को नियुक्त करने पर राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के प्रति आभार व्यक्त किया। इसके साथ ही उन्होंने आदिवासी समाज की समस्याओं की ओर राज्यपाल का ध्यान आकृष्ट किया। पूर्व सांसद श्री सोहन पोटाई ने कहा कि सुश्री उइके के राज्यपाल नियुक्त किये जाने से आदिवासी समाज गौरान्वित हुआ है। उन्होंने कहा कि हमें विश्वास है कि सुश्री उइके द्वारा राज्यपाल पद का दायित्व ग्रहण करने से आदिवासी समाज की विभिन्न समस्याओं का प्राथमिकता से निराकरण होगा। प्रांतीय अध्यक्ष श्री बीपीएस नेताम और श्री एन. एस. मंडावी ने भी आदिवासी समाज की समस्याओं पर प्रकाश डाला। इस अवसर पर सर्व आदिवासी समाज के युवा प्रभाग के प्रांताध्यक्ष श्री विनोद नागवंशी ने आभार व्यक्त किया। इस अवसर पर राज्यपाल के सचिव श्री सुरेन्द्र कुमार जायसवाल, श्री फूलसिंह नेताम, श्री एन. एच. ठाकुर, श्री मोहन कोमरे, श्री एन. आर. चन्द्रवंशी, श्री राजकुमार ठाकुर सहित प्रदेश के विभिन्न जिलों से आए सर्व आदिवासी समाज के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

error: Content is protected !!