प्रदेश महिला कांग्रेस ने कहा कि नरवा, गरवा, घुरवा अउ बारी एला बचाना हे संगवारी 

०० नरवा, गरवा, घुरूवा, अउ बारी के जरिये महिलाओं को अधिक से अधिक रोजगार मिलेगा

रायपुर। छत्तीसगढ़ प्रदेश महिला कांग्रेस की प्रदेश अध्यक्ष फूलोदेवी नेताम जी के नेतृत्व में आज राजीव भवन में मासिक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें कार्य की समीक्षा किया गया। इस बैठक में प्रमुख रूप से नरवा, गरवा, घुरवा, बारी में चर्चा हुआ। बैठक को संबोधित करते हुये श्रीमती फूलोदेवी नेताम ने सर्वप्रथम सभी अध्यक्षों की तारीफ करते हुए कहा कि आप सभी का कार्य बहुत प्रशंसनीय है। अब हमें नरवा, गरवा, घुरवा, अउ बारी के मुद्दों पर काम करना होगा। मवेशियों के लिए गोठान बनाकर, चारा-पानी पशुओं का नस्ल सुधारकर गांव में दूध-दही के़ उत्पादन को बढ़ावा देना है। गोबर खाद से जमीन की उर्वरा शक्ति बढे़गी। जब गांव समृद्ध होगा तब छत्तीसगढ़ बनेगा।

प्रदेश महिला कांग्रेस अध्यक्ष फूलोदेवी नेताम ने नवनिर्वाचित प्रदेश अध्यक्ष मोहन मरकाम को महिला कांग्रेस की तरफ से बधाई एवं भविष्य की शुभकामनाएं दी। महिला कांग्रेस ने भूपेश बघेल का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि नरवा, गरवा, घुरवा, बारी इसके संरक्षण में आम लोगों की सहभागिता बहुत जरूरी है। महिला कांग्रेस गांव-गांव जाकर लोगों को इसका फायदा बतायेगी एवं यह बताएगी कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल जी ने सरकार के सूत वाक्य नरवा, गरवा, घुरूवा, बारी के जरिए गांवो की तरक्की के लिए बजट में प्रावधान रखा गया। इससे गांव के लोगों को रोजगार मुहैया कराने इसे मनरेगा से जोड़ा गया है। राशन कार्ड के नवीनीकरण में महिला पदाधिकारी का विशेष सहयोग रहेगा। महिला कांग्रेस को यह ध्यान रखना होगा कि कोई राशन कार्ड बनाने से वंचित न रह जाये। गांव में यदि कोई बच्ची किसी कारण वंश पढ़ाई बीच में छोड़ती है तो उसे पढ़ाई पूरा करने के लिए प्रोत्साहन किया जायेगा। हमारे समाज में संगठन के जरिए रूढ़िवाद परंपरा को दूर रखें, समाज के संगठन के साथ जुड़कर समाज को आगे बढ़ाने की दिशा में महिला कांग्रेस काम करेगी। इतिहास में पहली बार महिलाओं को तीजा की छुट्टी मिला है। सभी महिलायें बहुत खुश है। सभी प्रदेशवासी इस ऐतिहासिक फैसले के लिए आभार प्रकट कर रहे है। जिला पंचायत अध्यक्ष शारदा वर्मा बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि नरवा, गरवा, घुरूवा, बारी के श्लोगन से हमें इतनी बड़ी बहुमत हासिल हुआ है। इससे महिलाओं की भागीदारी मुख्य रहेगी। इससे महिलाओं को ज्यादा से ज्यादा रोजगार मिलेगा। सुभद्रा सलाम सभा को संबोधित करते हुए कहा कि गोबर से जैविक खाद बनाया जाता है। हम आते-जाते देखते है कि मवेशी रोड में बैठी नजर आती है। रोड में बैठने की वजह से एक्सीडेंट या हादसा का शिकार हो जाती है। गोठान बनने से गाय को चारा और निवास दोनों मिलेगी। सभी जिला अध्यक्षों ने बैठक को संबोधित किया एवं अपने-अपने विचार व्यक्त किए। बैठक का संचालन श्रीमती उषा रंजन श्रीवास्तव ने किया। इस बैठक में प्रदेश के सभी पदाधिकारीगण एवं जिलाअध्यक्ष उपस्थित हुए। बैठक के अंत में दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री श्रीमती शीला दीक्षित एवं माता बिंदेश्वरी बघेल को श्रद्धांजलि अर्पित कियें।

error: Content is protected !!