यति यतनलाल महान संत ही नहीं स्वाधीनता संग्राम के कर्मठ योद्धा थे : मुख्यमंत्री

०० मुख्यमंत्री ने पुण्यतिथि पर श्री यति यतनलाल को किया नमन

रायपुर| मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल ने संत सेनानी श्री यति यतनलाल की पुण्यतिथि 19 जुलाई पर नमन करते हुए उनके योगदान को याद किया। श्री बघेल ने कहा कि श्री यतनलाल एक महान संत ही नहीं स्वाधीनता संग्राम के कर्मठ योद्धा थे। उनका जीवन त्याग,बलिदान और सेवा की मिसाल है। सन् 1934 में रायपुर जिले में हैजा फैलने के दौरान उन्होंने गांव-गांव जाकर लोगों के बचाव और उपचार के लिए सहायता की। श्री बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में मादक द्रव्य निषेध और जातिगत भेदभाव को दूर करने में भी उनकी प्रमुख भूमिका रही। सामाजिक कुरीतियों का उन्होंने मुखर विरोध किया और समाज सुधार के अनेक काम किये। उनके जीवन आदर्श हमें छत्तीसगढ़ को सामाजिक सद्भाव और समरसता की दिशा में आगे ले जाने की प्रेरणा देते रहेंगे।

 

error: Content is protected !!