चार साल से शासकीय स्कूल के भवन में प्राइवेट स्कूल किया जा रहा है संचालन

सरकारी स्कूल के बच्चे जर्जर भवन में पढ़ने को मजबूर

कुंदन साहू

धमतरी। एक तरफ छत्तीसगढ़ सरकार शिक्षा और स्वास्थ्य को सबसे पहले प्राथमिकता देने की बात कह रही है तो वही दूसरी ओर जिला मुख्यालय धमतरी से लगभग 12 से 13 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ग्राम पंचायत रांवा के शासकीय भवन में प्राइवेट स्कूल का संचालन हो रहा है शासकीय स्कूल में अध्ययनरत बच्चों को जर्जर भवन में पढ़ना पढ़ रहा है सूत्रों की माने तो जिस उदेश्य के लिए भवन बनाया गया है उसका उलट ही हो रहा है निजी स्वार्थ के चलते विगत चार सालों से संबंधित अधिकारियों से सांठ गाँठ कर प्राइवेट स्कूल संचालित किया जा रहा है जब इस संबंध में प्राइवेट स्कूल के प्रधान पाठक से चर्चा किया गया तो उन्होंने बताया कि धमतरी जिला शिक्षा अधिकारी से एन ओ सी लेकर ग्राम पंचायत के माध्यम से हमको किराया में दिया गया है और यह संचालन चार वर्ष होने जा रहा है आगे उन्होंने बताया कि अभी वर्तमान में 300 छात्र छात्राएं अध्ययनरत है।

वहीं ग्रामीणों ने बताया कि जिस भवन को सरकारी स्कूल के बच्चों को मिलना चाहिए उस भवन में निजी विद्यालय का संचालन हो रहा है 60 साल पुराने प्राथमिक शाला भवन में प्राथमिक कक्षा के 92 बच्चे अध्ययनरत है वही प्राइवेट स्कूल में छात्रा छात्राएं की संख्या 300 है जिसका कारण है सरकारी स्कूल के बच्चों को जो मूलभूत सुविधाएं मिलना चाहिए उसे कुछ भ्रष्ट अधिकारी के द्वारा निजी स्वार्थ के चलते प्राइवेट स्कूल को संचालन के लिए दिया जा रहा है।

कुछ साल पहले कन्या माध्यमिक शाला बॉयज स्कूल में मर्ज हुआ तब से यहां का स्कूल खाली है उसी समय से इस भवन को एक निजी विद्यालय को किराए पर दे दिया गया है आज जब प्राथमिक स्कूल के लिए निजी स्कूल को खाली करने की मांग शिक्षक कर रहे हैं तो निजी स्कूल संचालक द्वारा स्कूल को खाली नहीं कराया जा रहा है ऐसे में मजबूरन प्राथमिक के बच्चों को जर्जर भवन में पढ़ाई करनी पड़ रही है पालकों का कहना है कि शिक्षा विभाग को बच्चों के स्थिति को देखते हुए सही भवन में स्थानांतरित करना चाहिए क्योंकि इसकी जर्जर हालत से हमेशा खतरा बना रहता है लंबे समय से हम लोग मांग करते आ रहे हैं लेकिन हमारी मांग पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है इस संबंध में जिला शिक्षा अधिकारी टीके साहू ने बताया कि ग्राम पंचायत रांवा के सरकारी स्कूल भवन में निजी स्कूल विद्यालय संचालन की जानकारी लेकर उचित कार्यवाही की जाएगी इस संबंध में विकास खंड शिक्षा अधिकारी से जानकारी ली जा रही है।

error: Content is protected !!