सीतापुर विधायक अमरजीत भगत होंगे भूपेश मंत्रिमंडल के 13वें मंत्री, आज लेंगे मंत्री पद की शपथ

०० लगातार चार बार के विधायक व स्वास्थ्य मंत्री टीएस बाबा के करीबी है अमरजीत भगत

०० राजभवन में अमरजीत भगत के मंत्री पद की शपथ ग्रहण की तैयारियां हो गयी है शुरू

रायपुर| छत्तीसगढ़ के सीतापुर विधानसभा सीट से विधायक अमरजीत भगत शनिवार को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल मंत्रिमंडल में मंत्री के तौर पर शपथ लेंगे। अमरजीत भगत भूपेश मंत्रिमंडल में 13वें मंत्री होंगे। राजभवन में अमरजीत भगत के मंत्री पद की शपथ ग्रहण की तैयारियां शुरू हो गई है वहीं मंत्री बनाए जाने की खबर फैलते ही अमरजीत भगत को बधाई देने वालों का तांता लग गया।

कांग्रेस सरकार में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के बाद राज्य के सबसे ताकतवर नेता और मंत्री टी एस सिंहदेव ने भी इशारों-इशारों में साफ कर दिया था कि अगला अध्यक्ष बस्तर से आदिवासी नेता हो सकता है, वहीं सरगुजा से नाता रखने वाले नेता को मंत्री बनाया जा सकता है। सिंहदेव ने अपनी मंशा से राहुल गांधी को भी अवगत करा दी। कांग्रेस नेता अमरजीत सिंह भगत पहली बार 2003 में सीतापुर सीट से चुनाव जीतकर विधानसभा पहुंचे थे। इस चुनाव में अमरजीत ने भाजपा के उम्मीदवार राजाराम भगत को हराया था। इसके बाद 2008 के चुनाव में उन्होंने भाजपा के गणेशराम भगत, 2013 के चुनाव में बीजेपी के राजाराम भगत और 2018 के चुनाव में भाजपा के ही प्रत्याशी गोपाल राम को हराया और लगातार चौथी बार विधायक बने। कांग्रेस आलाकमान ने छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के लिए आदिवासी नेता और विधायक मोहन मरकाम के नाम पर अंतिम मुहर लगा दी है। छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस मोहन मरकाम को प्रदेश संगठन के अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी है। मोहन मरकाम पहले आदिवासी नेता हैं, जिन्हें पीसीसी की कमान सौंपी गई है। मरकाम कोण्डागांव विधानसभा सीट से दूसरी बार विधायक चुने गए हैं। छत्तीसगढ़ की राजनीति के जानकारों का कहना है कि पार्टी मंडावी और मरकाम में से ही अध्यक्ष चुनकर खुद को आदिवासी हितैषी बताने के साथ इस वर्ग में जनाधार बनाए रखना चाहती है। मरकाम के पक्ष में बड़ी बात यह है कि वे सिंहदेव और भूपेश बघेल दोनों के करीबी हैं। मरकाम के अध्यक्ष बनने पर किसी तरह के टकराव के आसार भी नहीं है।

error: Content is protected !!