संगी सहयोगी महिला संघ  की सदस्यों को आत्मनिर्भर बनाने के लिए दिया गया प्रशिक्षण

संजय बंजारे

करगी रोड कोटा। जन स्वास्थ्य सहयोग संस्था द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में 120 महिला समूह संचालित किये जा रहे हैं। संस्था द्वारा  महिलाओं को आत्म निर्भर और मूलभूत अधिकारों के प्रति सशक्त बनाने के लिए संगी  सहयोगी महिला संघ का गठन किया, जो कि जिला स्तरीय  संगठन है, संघी सहयोगी महिला संघ वर्तमान में मुंगेली और बिलासपुर जिले में संचालित हो रहा है।

इस संगठन में महिलाएं आपने मूलभूत अधिकारों के प्रति जागरुगता अभियान चलाती है और वंचित, शोषित, पीड़ित  महिला को संगठन में जोड़कर मदद करती है एवं मूलभूत अधिकार के साथ—साथ अर्थिक सशक्तिकरण के दिशा में भी काम कर रही हैं जैसे सिलाई, कढाई, पछली पालन मुर्गी, बटेर, पालन मोटा अनाज (मिलेट फसल जैसे- कोदो, कुटकी, संवा, रागी) आदि की खेती भी कर रही है!  इसी श्रृंख्ला में संघ की महिला सदस्यों को घरेलू उपयोगी उत्पाद जैसे मसाले— बार साबुन, निरमा पॉवडर आदि बनाने का प्रशिक्षण  कोटा ब्लाक के ग्राम सेमरिया में दिया गया जिससे समूह की महिलाओं को  आत्मनिर्भर की और अग्रसर किया जा सके । इस प्रशिक्षण में 20 गाँव से समूह का प्रतिधित्व करने वाली 50 महिला सदस्यों को प्रशिक्षण प्रदाय किया गया। प्रशिक्षण श्री सुनील खारसे मुंगेली के द्वारा दिया गया एवं आयोजनकर्ता वरिष्ठ सामजिक कार्यकर्ता अनिल बामने, जन स्वास्थ्य सहयोग से बेन रत्नाकर एवं समूह सहायक, प्रकाशमणी, नरेश आर्मो, मलेश मरकाम, धर्मेंद्र पनिका  उपस्थित रहे।

 

error: Content is protected !!