बिना देखे-पढ़े अपनी राय देना केवल सनसनी : विनय पाठक

रायपुर। बिना देखे-पढ़े किसी के बारे में भी अपनी राय देना मैं उचित नहीं समझता, यह केवल एक सनसनीखेज बयान हो सकता है जिसका लाभ लोग अपने-अपने तरीके से उठा सकते हैं। ये बातें प्रख्यात रंगमंच कलाकार, लेखक विनय पाठक ने पत्रकारों से चर्चा के दौरान कही। वे निजी विश्वविद्यालय के वार्षिक कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे थे।
पाठक ने हाल ही में फिल्म कलाकार अक्षय कुमार की ओर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लिए गैर राजनीतिक साक्षात्कार के बारे में पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए कहा कि मैंने उस साक्षात्कार को देखा नहीं है, केवल उसके बारे में मैंने सुना है और मैं बिना किसी की पुस्तक पढ़े और बिना किसी का कार्यक्रम देखे इस प्रकार की कोई भी अपनी अभिव्यक्ति व्यक्त नहीं करता। मैं जानता हूं कि मेरी अभिव्यक्ति सनसनीखेज समाचार की सुर्खियां हो सकती है लेकिन किसी को प्रभावित नहीं कर सकती। राजनीति में प्रवेश के संबंध में पाठक ने कहा कि मैं राजनीति से काफी दूर रहना चाहता हूं क्योंकि राजनीति समाज के लिए जिवटता, समर्पण और सेवा का कार्य है और मुझमें इतनी जिवटता नहीं है। फिर मैं अपने रंगमंच और अपने अभिनय के माध्यम से समाज को लाभांवित करने का कार्य तो कर ही रहा हूं, मैं अपनी इस भूमिका से बहुंत संतुष्ट हूं।  इस अवसर पर निजी विश्वविद्यालय के संचालक सिद्धार्थ चतुर्वेदी भी उपस्थित थे, और उन्होंने पत्रकारों से पूछे गए सवाल पर कहा कि सीवी रमन यूनिवर्सिटी आईसेक्ट केन्द्र के जरिए देशभर में कौशल विकास के कार्यक्रम संचालित करती है और पूरे देश में इस प्रकार के कार्यक्रम केंद्रों में किए जाते है। जो सर्वश्रेष्ठ केंद्र है उन्हें सम्मानित किया जाता है, इन वार्षिक कार्यक्रमों में हमेशा उन नामचीन शख्सियत को आमंत्रित किया जाता है जो किसी न किसी क्षेत्र में प्रतिभा के धनी होते है ताकि उनके जीवन से छात्रों और फेकेलिटी को कुछ सिखने और जानने का अवसर मिल सकें।

 

error: Content is protected !!