सीमेंट के दामों में बढ़ोतरी भाजपा का झूठा प्रोपोगंडा : कांग्रेस

०० भाजपा राज में सीमेंट 325 रू. था तब क्या भाजपा मोदी-रमन टैक्स वसूलती थी

०० दिसंबर में जब रमन सरकार थी तब भी सीमेंट के दाम वही था जो आज है

रायपुर। कांग्रेस ने सीमेंट के दामों में बढ़ोतरी को भाजपाई प्रोपोगंडा बताया है। प्रदेश कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा है कि मुद्दाविहीन भाजपा के पास कांग्रेस सरकार के बारे में कुछ भी नकारात्मक बोलने और कहने को है ही नहीं इसलिये अब भाजपा सीमेंट के दामों की बढ़ोतरी का दुष्प्रचार कर रही है। सीमेंट की कीमतों में हर महीने 8 से 10 रू. की घट बढ़ होती है। यह सीमेंट मेन्यूफेक्चर एसोसिएशन बाजार की मांग के आधार पर निर्धारित करता है। किसी महीने सीमेंट की कीमत 8-10 रू. कम होती है, कभी बढ़ती है। तुलनात्मक रूप से भाजपा के शासनकाल की तुलना में आज भी सीमेंट की कीमतें कम है। भाजपा के राज में तो सीमेंट के दाम 325 रू. बोरी तक पहुंच गया था, तब क्या भाजपा सरकार इसमें रमन और मोदी टैक्स की वसूला करती थी?

छत्तीसगढ़ में जब 2003 में कांग्रेस की सरकार थी तब राज्य में सीमेंट की कीमत 99 रू. प्रतिबोरी थी। भाजपा की रमन सरकार बनते ही 2004 में सीमेंट के दाम 120 रू. प्रति बोरी हो गया था। 2005 के शुरूआत में तो सीमेंट के दाम 155 रू. बोरी तक पहुंच गया। 2006 में यह दाम सीधे 200 के ऊपर हो गया। इसके बाद 2008 में सीमेंट कंपनियों ने सीधे 250 से 300 रू. बोरी तक पहुंचा दिया। विपक्ष और जनता ने इस वृद्धि का विरोध किया। जनता ने रमन सरकार पर सीमेंट कंपनियों से सांठगांठ का आरोप लगाया भी, लगाया था लेकिन सीमेंट के दाम घटने के बजाय और बढ़े रमन राज में एक बार फिर से सीमेंट के दाम 325 तक पहुंच गये थे। मांग की गिरावट और वैश्विक मंदी के बाद सीमेंट के दाम फिर से 300 रू. के नीचे गिरा जो 245 से 250 रू. तक पहुंचा। दिसंबर 2018 में रमन सरकार के रहते सीमेंट के दाम 240 से 245 रू. बोरी था लगभग आज भी वही कीमत है। भाजपाई राजनैतिक स्वार्थवश भ्रम फैलाने सीमेंट के दाम बढ़ने का दुष्प्रचार कर रहे।

 

error: Content is protected !!